नई दिल्ली: कर्नाटक में बीजेपी की सरकार गिरने के बाद कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं में खुशी का माहौल है. कांग्रेस ऑफिस में मिठाई बंट रही है, ढ़ोल-नगाड़े बजाए जा रहे हैं और कार्यकर्ता भी पूरे जोश में नाच रहे हैं. वहीं दूसरी तरफ बीजेपी के ऑफिस में मायूसी छाई हुई है, येदियुरप्पा के इस्तीफे के ऐलान के साथ ही बीजेपी कार्यकर्ता जो दो दिन पहले येदियुरप्पा के सीएम बनने पर खुश थे अब मायूस हो गए हैं. जैसे ही दिल्ली में कांग्रेस के केंद्रीय मुख्यालय में येदियुरप्पा के इस्तीफे की खबर पहुंची वैसे ही कार्यकर्ताओं ने नाचना शुरू कर दिया.

येदियुरप्पा के इस्तीफा देने के बाद कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा, ”हम कांग्रेस, जेडीएस, निर्दलीय और बीएसपी के विधायकों को धन्यवाद करना चाहते हैं जो केंद्र सरकार के किसी भी तरह के लालच में नहीं आए और पार्टी के सिद्धांत और फैसले के साथ खड़े रहे.”

येदियुरप्पा के इस्तीफे से अब कुमारस्वामी के सीएम बनने का रास्ता साफ हो गया है. जब पत्रकारों ने कुमारस्वामी से सीएम बनने के बारे में पूछा तो कुमारस्वामी ने कहा, ”हम राज्यपाल द्वारा न्योता मिलने का इंतजार कर रहे हैं.”

इससे पहले बीएस येदियुरप्पा ने सदन में फ्लोर टेस्ट से पहले ही विधानसभा में सीएम पद से इस्तीफा दे दिया. येदियुरप्पा मात्र 55 घंटे तक ही सीएम रह सके. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत येदियुरप्पा को शनिवार को विधानसभा में बहुमत साबित करना था. येदियुरप्पा ने सदन में करीब 15 मिनट तक भाषण दिया और इसके बाद इस्तीफे का ऐलान किया. राज्यपाल वजुभाई वाला ने येदियुरप्पा को बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का वक्त दिया था जिसके बाद कांग्रेस ने सुप्रीम का रुख किया था.

कर्नाटक: फ्लोर टेस्ट से पहले ही येदियुरप्पा ने दिया इस्तीफा, सिर्फ 55 घंटे रह सके सीएम

विधानसभा में बहुमत के लिए येदियुरप्पा 7 विधायक नहीं जुटा पाए और फ्लोर टेस्ट से पहले ही इस्तीफा दे दिया. येदियुरप्पा सिर्फ 55 घंटे तक ही सीएम रह सके. इस तरह अब कर्नाटक में अब कांग्रेस-जेडीएस की सरकार होगी. और कुमारस्वामी मुख्यमंत्री होंगे. कांग्रेस के पास 78 विधायक हैं जबकि जेडीएस के पास 37 विधायक हैं.