नई दिल्ली: कर्नाटक में लोकसभा की तीन और विधानसभा की दो सीटों पर उपचुनाव के लिए शनिवार सुबह मतदान शुरू हुआ. इसे प्रदेश की सत्तारूढ़ कांग्रेस-जद(एस) गठबंधन सरकार के लिए लिटमस टेस्ट माना जा रहा है. शिवमोगा, मांड्या और रामनगर लोकसभा सीटों और बेल्लारी और जमखंडी विधानसभा सीटों पर मतदान सुबह सात बजे शुरू हुआ जो शाम छह बजे तक चलेगा. वोटिंग के लिए करीब 6,450 मतदान केंद्र बनाए गए हैं. इन सीटों के लिए कुल 54,54,275 मतदाता पंजीकृत हैं.

पांच सीटों के लिए कुल 31 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं लेकिन मुख्य मुकाबला कांग्रेस-जद(एस) गठबंधन और भाजपा के बीच है. चुनाव को महत्वपूर्ण माना जा रहा है. साथ मिलकर चुनाव लड़ने का फैसला करने वाले गठबंधन के दोनों भागीदारों ने इसे मई 2019 आम चुनाव का आगाज करार दिया है और राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा के खिलाफ इसी तरह के महागठबंधन का आह्वान किया है.

वोटों की गिनती मंगलवार को होगी. राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के अधिकारियों ने बताया कि कुल 1,502 मतदान केन्द्रों को संवेदनशील घोषित किया गया है. उन्होंने बताया कि उपचुनावों के लिए 35,000 से ज्यादा मतदान अधिकारियों को तैनात किया गया है. इस चुनाव में 8,922 वीवीपीएटी मशीनों का इस्तेमाल किया जा रहा है. पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पांचों सीटों के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. रामनगरम के मॉटोडोडी में मतदान बूथ 179 पर एक सांप घुस आया. इसकी वजह से कुछ समय तक मतदान रोकना पड़ा. हालांकि सांप को बाहर करने के बाद फिर से मतदान शुरू हुआ.