नई दिल्ली: जद(एस) ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा एवं मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के साथ बातचीत के बाद कर्नाटक में विभागों के बंटवारे को लेकर गतिरोध पूरी तरह खत्म हो गया है. ऐसी संभावना है कि चार या पांच जून को राज्‍य मंत्रिमंडल का विस्‍तार हो सकता है. आज शाम दोनों पार्टियां समझौते के बारे में सार्वजनिक रूप से घोषणा कर देंगी.

जद(एस) महासचिव कुंवर दानिश अली ने बताया, ‘‘शुक्रवार दिन में करीब 12:30 बजे राहुल गांधी और देवगौड़ा के बीच फोन पर बात हुई. अब किसी तरह का कोई गतिरोध नहीं है. दोनों दल आज शाम विभागों को लेकर हुए समझौते के बारे में ऐलान कर देंगे.’’

वहीं, मुख्‍यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने कहा कि दो सदस्यीय जदएस-कांग्रेस गठबंधन मंत्रिमंडल का चार या पांच जून को विस्तार हो सकता है. कुमारस्वामी ने नये मंत्रियों के शपथ ग्रहण की तारीखों पर चर्चा के लिए राजभवन में राज्यपाल वजूभाई वाला से भेंट की. उनके साथ उपमुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस प्रमुख जी परमेश्वर भी थे.

वाला से भेंट से पहले कुमारस्वामी ने कहा, ‘‘हमने रविवार को मंत्रिमंडल का विस्तार करने की सोची थी लेकिन चूंकि राज्यपाल का दिल्ली जाने का पहले से कार्यक्रम तय है, इसलिए हम (दूसरे दिन के बारे में) उनसे अनुरोध करने जा रहे हैं.’’ मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘हम उनसे चार या पांच जून पर चर्चा करेंगे. हमें देखना होगा, क्योंकि सूचना है कि वह पांच जून को सुबह लौटेंगे.

इससे पहले दानिश अली ने कहा कि राहुल गांधी और मुख्यमंत्री कुमारस्वामी के बीच भी गुरुवार देर रात पर फोन पर बात हुई थी. गौरतलब है कि राहुल गांधी अपनी मां सोनिया गांधी के इलाज के लिए विदेश में हैं. इससे पहले गुरुवार को कांग्रेस और जद(एस) के बीच गृह एवं वित्त जैसे अहम विभागों को लेकर सहमति बन गई थी, हालांकि लोक निर्माण, बिजली और कुछ अन्य विभागों को लेकर थोड़ा गतिरोध बना हुआ था. दानिश अली ने कहा कि दोनों पार्टियों के बीच सहमति के मुताबिक एच डी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली इस गठबंधन सरकार में कांग्रेस के पास गृह और जद(एस) के पास वित्त विभाग होगा.

कर्नाटक में सरकार बनाने के लिए हाथ मिलाने के बाद से ही दोनों दल विभागों के बंटवारे को लेकर मंथन कर रहे थे और पिछले एक सप्ताह में दोनों दलों के नेताओं ने कई बार बैठकें कीं. गठबंधन सरकार में कांग्रेस कोटे से 21 और जद(एस) के कोटे से 11 मंत्रियों के शामिल होने की संभावना है.