नई दिल्ली: कर्नाटक में बुधवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने से पहले जेडीएस नेता कुमारस्वामी विपक्षी नेताओं को साधने में जुटे हैं. जेडीएस कुमारस्वामी के शपथग्रहण समारोह को विपक्षी एकता के लिए एक शुरुआत के तौर पर देख रहा है. कुमारस्वामी सोमवार को राजधानी दिल्ली में हैं और यहां वो कांग्रेस, बीएसपी और आम आदमी पार्टी के नेताओं को अपने शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने का न्योता देने आए हैं. इसी कड़ी में कुमारस्वामी ने सोमवार को दिल्ली में बीएसपी प्रमुख मायावती से मुलाकात की और उन्हें शपथग्रहण समारोह में शामिल होने का न्योता दिया. Also Read - दिल्ली सरकार ने 'वर्क फ्रॉम होम' कर रहे अधिकारियों को जारी किया निर्देश, अब करना होगा यह काम

Also Read - सर्वदलीय बैठक से पहले राहुल ने कहा- पीएम बताएंगे कि हर भारतीय को कब तक मिलेगा मुफ्त टीका

मायावती से मुलाकात का मतलब Also Read - Night Curfew को लेकर दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने किया यह अहम फैसला, जानें क्या है नया आदेश

कर्नाटक चुनाव में इस बार बीएसपी की भी एंट्री हुई है. बीएसपी के एक उम्मीदवार ने कर्नाटक विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज की है. बता दें कि बीएसपी का एकमात्र विधायक भी कांग्रेस और जेडीएस के गठबंधन में बनने वाली सरकार में शामिल होगा. कर्नाटक में जिस तरह से जनादेश आया है ऐसे में एक विधायक की भी बहुत अहमियत है, यही कारण है कि कुमारस्वामी खुद मायावती से मिलकर उन्हें न्योता देने आए हैं.

राहुल-सोनिया से भी मिलेंगे

मायावती के अलावा कुमारस्वामी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी से भी मुलाकात कर उन्हें भी सरकार में शामिल होने का न्योता देंगे. कर्नाटक में जेडीएस, कांग्रेस के सहारे ही सरकार बना पा रही है. सोमवार को दिल्ली पहुंचने से पहले ऐसी अटकलें लगाई जा रही थीं कि कुमारस्वामी दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष से मिलकर 30-30 महीने तक सरकार चलाने के फॉर्मूले पर बात करेंगे लेकिन कुमारस्वामी ने ऐसी किसी भी अटकल को साफ नकार दिया था.

कुमारस्वामी ने साफ कहा था कि कर्नाटक में सत्ता साझा करने पर कांग्रेस से कोई समझौता नहीं होगा. हालांकि कुमारस्वामी ने ये जरूर माना था कि कांग्रेस अध्यक्ष से मिलकर इस बात पर चर्चा जरूर होगी कि कांग्रेस और जेडीएस के कितने विधायक गठबंधन सरकार में मंत्री बनेंगे.

कांग्रेस विरोध से CM बने केजरीवाल कांग्रेस की ही सरकार के शपथ ग्रहण समारोह में होंगे शामिल

केजरीवाल को भी मिला न्योता

दिल्ली में शीला दीक्षित के नेतृत्व वाली कांग्रेस पार्टी की सरकार के विरोध से राजनीति के मैदान में उतरने वाले आम आदमी पार्टी के नेता व सीएम अरविंद केजरीवाल भी कांग्रेस-जेडीएस की कर्नाटक में बनने वाली गठबंधन सरकार के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होंगे. केजरीवाल जेडीएस नेता और कर्नाटक के मुख्यमंत्री के लिए नामित एच.डी. कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह में कांग्रेस और अन्य नेताओं के साथ मंच साझा करते नजर आएंगे.

केजरीवाल के एक करीबी ने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री और जेडीएस के संरक्षक एच.डी. देवगौड़ा ने केजरीवाल को आमंत्रित किया है. अरविंद केजरीवाल के अलावा दूसरे राज्यों के मुख्यमंत्रियों के भी कुमारस्वामी के सीएम पद के शपथ ग्रहण समारोह में शिरकत करने की खबर है.