नई दिल्ली। कर्नाटक में कांग्रेस और जेडी(एस) के गठबंधन में चल रही तकरार की खबरों के बीच एक जुलाई को दोनों दलों की समन्वय समिति की बैठक बुलाई गई है जिसमें इस मुद्दे पर मुख्य रूप से चर्चा की संभावना है. सूत्रों का कहना है कि इस बैठक में दोनों पार्टियों के बीच तकरार के अलावा साझा न्यूनतम कार्यक्रम को अंतिम रूप दिए जाने पर बातचीत हो सकती है. Also Read - कर्नाटक के शिवमोगा में ब्‍लास्‍ट से 8 लोगों की हुई मौत, बढ़ सकती है मृतकों की संख्‍या, PM Modi ने दुख जताया

Also Read - सीएम उद्धव ठाकरे का बड़ा बयान, बोले- कर्नाटक से वापस लिए जाएंगे मराठी भाषा वाले इलाके

1 जुलाई को अहम बैठक Also Read - अमित शाह ने इस राज्य के सीएम की तारीफ़ में कही ये बात, बोले- सत्ता में वापसी तय है

समन्वय एवं निगरानी समिति की बैठक कर्नाटक में दो जुलाई से शुरू हो रहे विधानसभा सत्र से एक दिन पहले बुलाई गई है. 5 जुलाई को सीएम कुमारस्वामी पूर्ण बजट पेश करेंगे. लेकिन बजट सत्र शुरू होने से पहले ही दोनों पार्टियों के बीच मनमुटाव और तेज हो गया है. हालांकि, कांग्रेस की तरफ से बयान आया कि दोनों दलों के बीच सबकुछ ठीक है. लेकिन सियासी हलचलों ने कुछ और ही इशारा किया. समन्वय समिति के चेयरमैन सिद्धरमैया चुप्पी साधे हुए हैं लेकिन विधायक उनसे लगातार मिलने पहुंच रहे हैं.

कर्नाटक में फिर नाटक, 9 कांग्रेस विधायक सिद्धारमैया से मिलने पहुंचे

सभी मुद्दों पर होगी बात

इस समिति के संयोजक और जद(एस) महासचिव कुंवर दानिश अली ने बताया कि एक जुलाई को बैठक बुलाई गई है. इसमें साझा न्यूनतम कार्यक्रम को अंतिम रूप देने पर बातचीत होगी. यह पूछे जाने पर कि दोनों पार्टियों के बीच की तकरार पर भी बातचीत होगी तो उन्होंने कहा कि गठबंधन सरकार से जुड़े सभी जरूरी मुद्दों पर बातचीत होगी.

गठबंधन में दिख रही दरार

हाल के दिनों में दोनों पार्टियों के नेताओं की तरफ से ऐसे बयान आए हैं जिनसे यह कयास लगाए जा रहे हैं कि इस गठबंधन में सब कुछ ठीक नहीं है. समन्यय समिति की पिछली बैठक 14 जून को हुई थी. इन दिनों गठबंधन में दरार दिख रही है. सिद्धरमैया बेंगलुरू से बाहर हैं और यहां चर्चा का बाजार गर्म है. उनकी तरफ से किसी तरह की सफाई भी नहीं आई. बुधवार को कांग्रेस के 9 विधायक उनसे मिलने पहुंचे थे.

समन्वय समिति के चेयरमैन सिद्धरमैया

पिछले महीने एचडी कुमारस्वामी के नेतृत्व में गठबंधन सरकार बनने के बाद दोनों दलों ने पांच सदस्यीय समन्वय एवं निगरानी समिति का गठन किया था. पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया इस समिति के चेयरमैन और दानिश अली संयोजक हैं. समिति में मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी, उपमुख्यमंत्री जी परमेश्वर और कांग्रेस के कर्नाटक प्रभारी केसी वेणुगोपाल भी शामिल हैं.