नई दिल्ली। कर्नाटक का सियासी घटनाक्रम बुधवार को फिर नए मोड़ पर पहुंचा. राज्यपाल वजुभाई वाला की ओर से बीजेपी को सरकार बनाने का न्योता देने पर कांग्रेस ने राज्यपाल को निशाने पर लेते हुए उनपर करारा हमला किया. कांग्रेस की तरफ से रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कांफ्रेंस कर राज्यपाल के फैसले पर सवाल उठाते हुए इसे लोकतंत्र की हत्या करार दिया. कर्नाटक में बी एस येदियुरप्पा को सरकार गठन का न्योता मिलने के बाद कांग्रेस ने आरोप लगाया कि राज्यपाल वजुभाई वाला ने संविधान की बजाय भाजपा में अपने मालिकों की सेवा चुनी और ‘भाजपा की कठपुतली’ के तौर पर काम किया. वहीं, कांग्रेस कर्नाटक में सरकार बनाने के लिये भाजपा को न्योता देने के राज्यपाल के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई. अभिषेक सिंघवी ने पीटीआई से कहा कि कांग्रेस ने कर्नाटक के राज्यपाल के फैसले के खिलाफ अपनी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में आज रात (बुधवार) सुनवाई की मांग की. बता दें कि राज्यपाल ने बीएस येदियुरप्पा को सरकार बनाने का न्योता दिया है. वह गुरुवार सुबह 9 बजे शपथ लेंगे. उन्हें बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का वक्त दिया गया है. Also Read - राम मंदिर निर्माण के शिलान्यास पर बोले अमित शाह- आज का दिन भारत के लिए ऐतिहासिक व गौरवपूर्ण

Also Read - अमित शाह के बाद केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भी कोरोना पॉजिटिव, अस्पताल में भर्ती

राज्यपाल पर बरसे सुरजेवाल बरसे Also Read - 'दुबई में आईपीएल आयोजन की अनुमति ना दें केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह'

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि वजुभाई वाला ने राज भवन की गरिमा धूमिल की, संविधान और नियमों की अवहेलना की और भाजपा की कठपुतली के तौर पर काम किया. उन्होंने कहा कि राज्यपाल ने संविधान की बजाय भाजपा में अपने मालिकों’ (मास्टर्स इन बीजेपी) की सेवा चुनी. सुरजेवाला ने कहा कि कर्नाटक भाजपा ने (न्यौते के बारे में) पहले से सूचना दे दी. जब आदेश भाजपा मुख्यालय से आते हों तो फिर राज्यपाल पद की गरिमा का क्या होगा.

सुरजेवाला ने कहा कि आज लोकतंत्र का एनकाउंटर हुआ है. संविधान की धज्जियां उड़ी हैं. येदियुरप्पा सरकार बहुमत साबित नहीं कर पाएगी. राज्यपाल वजुभाई वाला जी बीजेपी का मुखौटा बनकर काम कर रहे हैं. हम अपने सभी कानूनी अधिकारों का इस्तेमाल करेंगे. हम अमित शाह जी से पूछना चाहते हैं कि अगर दो पार्टियां चुनाव के बाद गठबंधन कर सरकार नहीं बना सकती तो गोवा और मणिपुर में सबसे बड़ी पार्टी को सरकार क्यों नहीं बनाने दिया गया? राज्यपाल ने अपने ऑफिस की मर्यादा को शर्मसार किया है.

गहलोत का हमला

कर्नाटक में गुरुवार को बीएस येदियुरप्पा के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने की खबरों के बीच कांग्रेस महासचिव अशोक गहलोत ने आरोप लगाया कि राज्यपाल वजुभाई वाला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के दबाव में काम कर रहे हैं.

कर्नाटक में मौजूद गहलोत ने एक बयान में आरोप लगाया कि राज्यपाल पर भाजपा अध्यक्ष और प्रधानमंत्री का दबाव है. गहलोत ने यह भी दावा किया कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह गुजरात में राज्यसभा चुनाव में मिली हार का बदला लेने की भावना से काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि बहुमत का आंकड़ा कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन के पास है और ऐसे में उन्हें ही सरकार बनाने का मौका मिलना चाहिए.

येदियुरप्‍पा को मिला सरकार बनाने का न्‍योता, कल सुबह 9 बजे लेंगे मुख्‍यमंत्री पद की शपथ

किसी को बहुमत नहीं

बता दें कि राज्य में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है. ऐसे में प्रदेश की 224 सदस्यीय विधानसभा में 222 सीटों पर हुए चुनाव में भाजपा को 104, कांग्रेस को 78 और जेडीएस+ को 38 सीटें मिली हैं. फिलहाल, बहुमत के लिए जादुई आंकड़ा 112 है. इसी को लेकर राज्य में सियासी पारा ऊपर पहुंच गया और दोनों पक्षों ने राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया.