नई दिल्ली/बेंगलुरु. कर्नाटक की राजनीति में उठापटक के बीच कुमारस्वामी ने कहा है कि वर्तमान में वह जिस हालत में सीएम बन रहे हैं उससे खुश नहीं हैं. अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि मैंने लोगों से बहुत वायदे किए हैं. मैं मानता था कि मैं बहुमत के साथ सीएम बनूंगा. लेकिन लोगों ने मुझपर और मेरी पार्टी पर उस तरह का विश्वास नहीं दिखाया. लोग समझ रहे हैं कि मैं अवसरवादी हूं. मैं सीएम इसलिए बन रहा हूं कि खुद को साबित कर सकूं.

कुमारस्वामी ने कहा, मैं इस जिम्मेदारी को अवसर की वजह से नहीं स्वीकार कर रहा हूं. मैं इसे एक टेस्ट के तौर पर देख रहा हूं. मैंने अपने जीवन को लोगों के लिए समर्पित कर दिया है यह साबित करने का समय है. मैं जानता हूं कि किन परिस्थितियों में सीएम बना हूं. ये साल 2006 वाले लोग ही हैं. हालांकि, मैं ये भरोसा दिलाना चाहता हूं कि उस तरह की गलती दोबारा नहीं दोहराई जाएगी.

किसानों का कर्ज माफ
कुमार स्वामी ने कहा, मैंने यह घोषणा किया था कि शपथ के 24 घंटे के अंदर किसानों का कर्जा माफ कर दूंगा. लेकिन निर्णय भावनाओं में बंधकर नहीं लिया जाता है. मैं चाहता हूं कि सभी यह समझे कि हम गठबंधन की सरकार बना रहे हैं. हम मिलकर बेहतर तरीका निकालने की कोशिश करेंगे.

कांग्रेस के साथ गठबंधन
कांग्रेस के साथ बेहतर गठबंधन को लेकर कुमारस्वामी ने कहा, दोनों पार्टियां कॉमन मिनिमम प्रोग्राम के तहत गठबंधन में हैं. हमने एक कोऑर्डिनेशन कमिटी बनाई है. सिद्धारमैया के पास 5 साल सरकार चलाने का अनुभव है, जिसका हमें फायदा मिलेगा. हम सभी निर्णय सोनिया गांधी और राहुल गांधी को भरोसे में लेकर लेंगे.

शिवकुमार की राजनीति
डीके शिवकुमार से राजनैतिक विरोध पर कुमारस्वामी ने कहा, हम दोनों राजनीतिक रूप से समझदार हैं. हम स्थिति को समझते हैं. हमने हाथ मिलाने का निर्णय लिया है और निर्णय लिया है कि व्यक्तित मतभेदों से हटकर साठ करने का समीकरण बनाएंगे.