नई दिल्ली. कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू, राजनीति में रियल एस्टेट यानी बिल्डर लॉबी के सक्रिय रहने को लेकर जानी जाती है. इस बार के विधानसभा चुनाव में भी बेंगलुरू की कई सीटों से विभिन्न दलों ने जिन उम्मीदवारों को उतारा है, उनमें से कई बिल्डर हैं या उनका रियल एस्टेट कारोबार से कोई न कोई कनेक्शन है या फिर उम्मीदवारों को इस लॉबी का समर्थन प्राप्त है. यही वजह है कि बेंगलुरू की सीटों से चुनाव लड़ने वाले कई प्रत्याशी करोड़पति हैं. सियासी विशेषज्ञों के अनुसार भारतीय जनता पार्टी, कांग्रेस और जनता दल (एस) ने ऐसे कई उम्मीदवारों को चुनाव के टिकट दिए हैं, जो राजनीति में ‘मनी-पावर’ के लिए जाने जाते हैं. अंग्रेजी अखबार इकोनॉमिक टाइम्स में छपी खबर के अनुसार बेंगलुरू की कुल 28 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ रहे कुल 82 उम्मीदवारों में से सिर्फ 7 प्रत्याशी ही ऐसे हैं जिनकी घोषित संपत्ति 1 करोड़ से कम है. बाकी सभी करोड़पति हैं. इनमें से भी 13 उम्मीदवारों की संपत्ति तो 100 करोड़ रुपयों से भी ज्यादा है. अखबार ने उम्मीदवारों द्वारा दाखिल शपथपत्र के आधार पर यह विश्लेषण किया है. बता दें कि राज्य में 12 मई को विधानसभा का चुनाव है. इसके परिणाम 15 मई को आएंगे.

शिकारी कुत्तों के लिए फेमस इस सीट पर भाजपा करती रही है कांग्रेस का ‘शिकार’

कांग्रेस के विधायक राज्य के सबसे अमीर उम्मीदवार
गोविंदराजनगर के कांग्रेस विधायक और बिल्डर प्रिया कृष्णा राज्य के सबसे अमीर उम्मीदवार हैं. नामांकन पत्र के साथ दाखिल किए गए शपथपत्र में उन्होंने अपनी कुल संपत्ति 1020.53 करोड़ रुपए घोषित की है. वह इस विधानसभा सीट से तीसरी बार चुनाव लड़ रहे हैं. विजयनगर से विधानसभा चुनाव लड़ने को इच्छुक प्रिया कृष्णा के पिता एम. कृष्णप्पा भी रियल एस्टेट कारोबार से जुड़े हैं. ‘लेआउट कृष्णप्पा’ के नाम से पहचाने जाने वाले एम. कृष्णप्पा की भी घोषित संपत्ति 235 करोड़ रुपए है. पिता-पुत्र दोनों रियल एस्टेट के बड़े कारोबारी माने जाते हैं. भारतीय जनता पार्टी ने भी दो बिल्डरों को विधानसभा चुनाव का टिकट दिया है, जिनकी संपत्ति 100 करोड़ रुपए से ज्यादा है. केआर पुरम से विधानसभा चुनाव लड़ रहे नंदीश रेड्डी और चिकपेट से भाजपा प्रत्याशी उदय बी. गरुड़ाचर, दोनों बिल्डर हैं. नंदीश रेड्डी ने 303.06 करोड़ रुपए की संपत्ति घोषित की है, जबकि उदय गरुड़ाचर ने 190 करोड़ रुपए की संपत्ति का खुलासा किया है.

53 हेलिकॉप्टरों से ‘गर्दा उड़ा’ रही बीजेपी, 10 चॉपर के भरोसे कांग्रेस

राज्य के गृह मंत्री की बेटी ‘गरीब’ प्रत्याशी
कर्नाटक के गृह मंत्री आर. रामलिंगा रेड्डी की बेटी सौम्या रेड्डी भी राज्य विधानसभा का चुनाव लड़ रही हैं. वह जयानगर से कांग्रेस की उम्मीदवार हैं. सौम्या रेड्डी बेंगलुरू से चुनाव लड़ने वाले कांग्रेस के उम्मीदवारों में सबसे गरीब उम्मीदवार हैं. नामांकन पत्र के साथ दाखिल एफिडेविट में उन्होंने कुल 54.90 लाख रुपए की संपत्ति घोषित की है. वहीं उनके पिता की कुल संपत्ति 66.16 करोड़ रुपए है. बेंगलुरू से विधानसभा चुनाव लड़ने वाले करोड़पति बिल्डर प्रत्याशियों की फेहरिस्त में जनता दल (एस) के उम्मीदवारों का स्थान दूसरा है. इस पार्टी के उम्मीदवार बिल्डर के. बागे गौड़ा बासवानगुड़ी विधानसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. उन्होंने अपने नामांकन पत्र में 320 करोड़ रुपए की संपत्ति घोषित की है. वहीं, आश्चर्यजनक रूप से जनता दल (एस) के ही प्रत्याशी शेख मस्तान अली सभी पार्टियों में सबसे गरीब प्रत्याशी हैं, जिन्होंने कुल 10.45 लाख रुपए की संपत्ति की घोषणा की है.

मोदी जी शब्‍दों में वजन व सच्चाई लाइये, आप प्रधानमंत्री हैं शोभा नहीं देता किसी का मजाक उड़ाना: राहुल गांधी

मोदी जी शब्‍दों में वजन व सच्चाई लाइये, आप प्रधानमंत्री हैं शोभा नहीं देता किसी का मजाक उड़ाना: राहुल गांधी

पिछले 5 साल में कई विधायक हो गए अमीर
कर्नाटक विधानसभा चुनाव में सबसे रोचक तथ्य यह है कि दर्जनभर से ज्यादा विधायकों की संपत्ति पिछले 5 वर्षों में दोगुनी से ज्यादा हो गई है. इकोनॉमिक टाइम्स के अनुसार 27 विधायकों में से 12 ऐसे विधायक हैं जिनकी संपत्ति में दोगुने से ज्यादा की बढ़ोतरी देखी गई है. इन विधायकों में बी. शिवन्ना, एम. कृष्णप्पा, एम. सतीश रेड्डी, कृष्णा बायरे गौड़ा, बी.जेड. जमीर अहमद खान, आर.वी. देवराज, वाई.ए. नारायणस्वामी, बी.एन. विजयकुमार, बी.ए. बासवराज, अरविंद लिंबावली, आर. अखंड श्रीनिवासमूर्ति और एस.टी. सोमशेखर शामिल हैं.

कर्नाटक चुनाव की और खबरों के लिए पढ़ें India.com