Live Updates

  • 11:03 PM IST
    जेडीएस के साथ मीटिंग के बाद अशोका होटल से जाते कांग्रेस नेता

  • 10:52 PM IST
    कुमारस्वामी की कांग्रेस नेताओं के साथ मीटिंग खत्म

  • 10:51 PM IST

    कांग्रेस नेताओं से मिलने होटल अशोका पहुंचे कुमारस्वामी

  • 10:51 PM IST

  • 9:54 PM IST

    कर्नाटक में चुनाव के बाद बनी त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति में सबसे बड़े दल के रूप में उभरी भारतीय जनता पार्टी ( भाजपा ) ने अपने नवनिर्वाचित विधायकों की कल एक बैठक बुलायी है. पार्टी सूत्रों ने बताया कि प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बी एय येदियुरप्पा की अध्यक्षता में होने वाली इस बैठक में उन्हें भाजपा विधायक दल का नेता चुने जाने की संभावना है. चुनाव से काफी पहले भाजपा ने येदियुरप्पा को अपना मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवा घोषित किया था.

  • 9:26 PM IST

    बीजेपी ने केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा और धर्मेंद्र प्रधान को कर्नाटक के लिए ऑब्जर्वर बनाया. विधायक दल की बैठक बुधवार सुबह 11 बजे होगी.

  • 8:19 PM IST

  • 8:07 PM IST

  • 8:04 PM IST

    पीएम मोदी का भाषण

    -कर्नाटक में विजय के लिए अमित शाह को बधाई
    -मेरे संसदीय क्षेत्र वाराणसी में हादसा हुआ, पुल गिरने से कई लोगों की मृत्यु हो गई, एक तरफ कर्नाटक में विजय की खुशी दूसरी तरफ हादसे से दर्द का बोझ. पीडि़तों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं. सीएम से कहा है कि सभी को हरसंभव मदद पहुंचाएं.
    -कर्नाटक की विजय असामान्य विजय है. कई लोग कहते थे कि भाजपा हिंदी भाषी पार्टी है. न गुजरात हिंदी भाषी है, न महाराष्ट्र, न गोवा और न ही असम हिंदी भाषी राज्य है. इस तरह की विद्रुप सोच रखने वालों को कर्नाटक की जनता ने जवाब दिया है.
  • 7:51 PM IST

    अमित शाह का भाषण-

    -कर्नाटक को पता लगना चाहिए कि प्रधानमंत्री खुद शुक्रिया कहने आए हैं.
    -देश ने बीजेपी की विकास यात्रा को आशीर्वाद दिया.
    -सभी कार्यकर्ताओं का बहुत बहुत धन्यवाद अदा करता हूं.
    -हमें पूर्ण बहुमत नहीं मिला तो कांग्रेस बहुत खुश हुई.
    -कर्नाटक में कांग्रेस 122 से 78 पर सिमट गई.
    -कर्नाटक में कांग्रेस किसी भी तरह सत्ता पाना चाहती है.
    -कांग्रेस ने हमारे खिलाफ प्रचार किया कि हम एसएसृएसटी एक्ट के खिलाफ हैं.
    -कर्नाटक में हमें हराने के लिए फर्जी आई कार्ड बनाए गए.
    -जो संगठन देश के खिलाफ, कांग्रेस उसके साथ

नई दिल्ली: कर्नाटक की 224 विधानसभा सीटों में से 222 पर 12 मई को हुए चुनाव के नतीजे मंगलवार को आएंगे. इस चुनाव में 72.13 वोटिंग हुई. पिछली बार 2013 में 71.45% वोटिंग हुई थी. इस बार के मतदान का प्रतिशत 1952 के राज्य विधानसभा चुनाव के बाद से सबसे अधिक है. मतों की गिनती सुबह 8 बजे से शुरू होगी. यह चुनाव कांग्रेस के लिए अस्तित्व की लड़ाई है. अगर कांग्रेस हारती है तो उसके हाथ से एक और बड़ा राज्य निकल जाएगा जो 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले किसी झटके से कम नहीं होगा. वहीं बीजेपी कर्नाटक जीत कर यह साबित करना चाहेगी की मोदी लहर आज भी बरकरार है. कर्नाटक के जरिए वह एक बार फिर दक्षिण की राजनीति में एंट्री करना चाहेगी.

कुल विधानसभा सीटें: 224
चुनाव हुए: 222 सीटों पर
बहुमत: 112
2 सीटें राजराजेश्वरी, जयनगर पर टाले गए चुनाव
कुल उम्मीदवार:2655
कुल वोटर: 4.96 करोड़
कर्नाटक की जनसंख्या 6.4 करोड़

कांग्रेस बना पाएगी इतिहास
वोटों की गिनती के लिए 40 सेंटर बनाए गए हैं. रूझान एक घंटे के भीतर आने शुरू हो जाएंगे. दोपहर तक स्थिति साफ हो जाएगी. यदि कांग्रेस के पक्ष में स्पष्ट जनादेश आता है तो 1985 के बाद यह पहली बार होगा जब कोई दल लगातार दूसरी बार सरकार बनाएगा. 1985 में तत्कालीन जनता दल ने रामकृष्ण हेगड़े के नेतृत्व में लगातार दूसरी बार सरकार बनाई थी.

गरीब किसान परिवार से CM तक, सिद्धारमैया का कर्नाटक में है अपना Factor

बीजेपी मारेगी बाजी?
वहीं बीजेपी अपनी जीत को लेकर आत्मविश्वास से भरी दिख रही है. बीजेपी के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बी.एस येदियुरप्पा ने तो यहां तक कह दिया है कि वह लिखकर देने को तैयार हैं कि राज्य में बीजेपी की ही सरकार बनेगी. येदियुरप्पा ने कहा कि हर किसी को विश्वास है कि बीजेपी पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने जा रही है. उन्होंने कहा कि हम इस बात को लेकर 100 प्रतिशत स्योर हैं कि 17 मई को हम सरकार बनाने जा रहे हैं.

चावल मिल के क्लर्क से CM तक, इस तरह येदियुरप्पा दक्षिण में हैं BJP के ट्रंप कार्ड

हंग असेंबली तो किस ओर जाएगी जेडीएस
जनता दल (एस) ने भी अपनी जीत का दावा किया है और कहा है कि मुख्यमंत्री पद के उसके उम्मीदवार एचडी कुमारस्वामी किंग होंगे, न कि किंगमेकर. त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति में एक संभावना यह हो सकती है कि 2004 की तरह ही कांग्रेस और जनता दल (एस) के बीच गठबंधन हो जाए जब कांग्रेस के दिग्गज धर्म सिंह के नेतृत्व में सरकार बनी थी. यदि इन दोनों के बीच गठबंधन होता है तो जनता दल (एस) मुख्यमंत्री के रूप में सिद्धरमैया के नाम पर सहमत नहीं होगा और वह किसी दलित को मुख्यमंत्री बनाने की मांग कर सकता है.

2014 में 14 राज्यों में थी कांग्रेस, मोदी के पीएम बनने के बाद इस तरह भगवामय हुए राज्य

क्या कहते हैं एग्जिट पोल
चुनाव के तुरंत बाद आए एग्जिट पोल हंग असेंबली की ओर इशारा कर रहे हैं. सात एग्जिट पोल में से पांच में किसी पार्टी को बहुमत मिलता नहीं दिख रहा है. अधिकतर एग्जिट पोल जेडीएस को किंगमेकर की भूमिका में बता रहे हैं. ऐसे में जेडीएस को अपने पाले में करने के लिए बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही पार्टियां रणनीति बना रही हैं. गोवा और मणिपुर विधानसभा चुनाव नतीजों से सबक लेते हुए कांग्रेस कर्नाटक में जोखिम मोल लेने के मूड में नहीं है. यही कारण है कि उसने ‘प्लान बी’ के तहत सोमवार को ही अपने दो वरिष्ठ नेताओं अशोक गहलोत और गुलाम नबी आजाद को बेंगलुरु भेज दिया.