कर्नाटक में सुप्रीम कोर्ट ने येदियुरप्पा के शपथ ग्रहण समारोह पर रोक लगाने से इंकार करने के बाद उनके सीएम पद की शपथ लेने का रास्ता साफ हो गया है. येदियुरप्पा अब से कुछ ही देर में सीएम पद की शपथ लेंगे. हालांकि इससे पहले उनकी ताजपोशी को लेकर बुधवार रात भर सियासत गर्माई रही. वहीं कांग्रेस शपथ ग्रहण समारोह रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गई. जानें पूरी रात का घटनाक्रम… Also Read - इस राज्य में लॉकडाउन 4.0 के बाद एक जून से खुल सकते हैं मंदिर, मस्जिद और गिरजाघर, सरकार बना रही रणनीति

रात 09.40 बजे: कर्नाटक के राज्‍यपाल वजुभाई वाला ने येदियुरप्‍पा को सरकार बनाने का न्‍योता दिया. अब 15 दिन में येदियुरप्पा को बहुमत साबित करना होगा. येदियुरप्‍पा शुक्रवार सुबह 9 बजे अकेले सीएम पद की शपथ लेंगे. Also Read - Lockdown: इस राज्य में खाली हुआ सरकारी खजाना, कर्मचारियों को देने के लिए भी नहीं बचे पैसे

रात 10.40 बजे : कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट से कर्नाटक में बीजेपी सरकार के शपथ ग्रहण पर रोक लगाने की मांग की. कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट पहुंची, चीफ जस्टिस लेंगे कांग्रेस की याचिका पर फैसला. सुप्रीम कोर्ट पहुंचकर अभिषेक मनु सिंघवी के साथ कांग्रेस के वकीलों ने अर्जी दाखिल की. Also Read - COVID-19: मुख्यमंत्री की घोषणा- पूरे कर्नाटक में लाकडाउन, यूपी में 27 मार्च तक बढ़ी समय सीमा

रात 11 बजे: सुप्रीम कोर्ट के असिस्‍टेंट रजिस्‍ट्रार ने चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के घर पहुंचकर कांग्रेस की अर्जी की जानकारी दी.

रात 12:25 बजे: सुप्रीम कोर्ट के वरिष्‍ठ अधिकारियों की टीम चीफ जस्टिस के घर पहुंची.

रात 1:05 बजे: सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के लिए रात 1 बजकर 45 मिनट का वक्‍त तय किया, इस मामले में सुनवाई के लिए चीफ जस्‍ट‍िस ने 3 जजों की बेंच तय की.

रात 1:40 बजे: सियासी ड्रामा के बीच दोनों पक्षों के वकील सुप्रीम कोर्ट पहुंचे, बीजेपी की तरफ से मुकुल रोहतगी पेश हुए.

रात 2 बजे: मामले में सुनवाई 15 मिनट की देरी से शुरू हुई.

रात 2.10 बजे: अटॉर्नी जनरल के.के. वेणुगोपाल भी सुप्रीम कोर्ट पहुंचे.

05.16 AM: कर्नाटक में पैदा हुए इस संकट में सुप्रीम कोर्ट में बहस पूरी हो गई है. सुप्रीम कोर्ट ने येदियुरप्पा को 15 और 16 मई की समर्थन चिट्ठी को भी जमा कराने को कहा है. सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक और यूनियन ऑफ इंडिया सहित सभी पक्षकारों को नोटिस जारी किया है.

05.30 AM: सुप्रीम कोर्ट ने कहा इस मामले में शुक्रवार सुबह 10.30 बजे दोबारा सुनवाई की जाएगी. इसके अलावा कोर्ट ने बीजेपी से समर्थक विधायकों की लिस्ट की भी मांगी की है.