Karnataka, X-Ray, CT-Scan, COVID-19, Coronavirus, Karnataka Govt,  News: कर्नाटक सरकार (Karnataka Government) ने राज्‍य में तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण ( COVID-19 infection) के मद्देनजर सीटी स्‍कैन (CT-Scan) और डिजिटल एक्‍स-रे (Digital X-Ray) की कीमतों पर लगाम लगाने के लिए नई दरें तय की हैं. कर्नाटक सरकार ने कोविड -19 संक्रमण का पता लगाने के लिए बढ़ रही सीटी-स्कैन और एक्स-रे की जरूरत के मद्देनजर इनकी दरें तय करने का फैसला किया है. वहीं, कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने शुक्रवार को कहा कि अगर लोग सहयोग नहीं करेंगे तो कोविड-19 के बढ़ते मामलों को रोकने के लिए लॉकडाउन लगाना अनिवार्य हो जाएगा.Also Read - Langya virus: कोरोना के बाद चीन में जानवरों से इंसानों में आया एक और वायरस, जानिए लांग्या वायरस के लक्षण

बता दें कर्नाटक में वर्तमान में एक्‍टिव मरीजों की संख्या 5 लाख के पार पहुंच गई है और गुरुवार को संक्रमण के 49,058 नए मामले सामने आए हैं, जिसमें बेंगलुरु शहरी जिला से 23,706 मामले आए. Also Read - CORBEVAX booster shot: आपने कोवैक्सीन लगवाई हो या कोविशील्ड अब आप कोर्बेवैक्स की बूस्टर भी ले सकते हैं, सरकार ने दी मंजूरी

कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. के. सुधाकर ने कहा, ” चूंकि कोविड -19 संक्रमण का पता लगाने के लिए सीटी-स्कैन और एक्स-रे की जरूरत तेजी से बढ़ रही है. सरकार ने निजी अस्पतालों और प्रयोगशालाओं में सीटी-स्कैन और डिजिटल एक्स-रे की कीमत क्रमशः 1,500 रुपए और 250 रुपए करने का फैसला किया है. Also Read - देश में 16 हजार से ज्यादा नए संक्रमितों की पुष्टि, प्रियंका गांधी वाड्रा को फिर हुआ कोरोना

देशभर में एक दिन में आ रहे कोविड-19 के नए मामलों में से 71.81 प्रतिशत मामले महाराष्ट्र, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश और दिल्ली समेत दस राज्यों से सामने आ रहे हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के शुक्रवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, भारत में एक दिन में कोरोना वायरस के रिकॉर्ड 4,14,188 नए मामले आने से संक्रमण के कुल मामले 2,14,91,598 पर पहुंच गए. सबसे अधिक मामलों के दस राज्यों की सूची में कर्नाटक, केरल, बिहार, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और राजस्थान भी शामिल हैं.

भारत में उपचाराधीन मरीजों की कुल संख्या के 81.04 प्रतिशत मामले महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, गुजरात, तमिलनाडु, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, हरियाणा और बिहार में हैं. एक्‍ट‍िव मरीजों के कुल मामलों की एक चौथाई संख्या महज 10 जिलों में है. बेंगलुरु शहरी, पुणे, दिल्ली, अहमदाबाद, एर्नाकुलम, नागपुर, मुंबई, कोझीकोड, जयपुर और ठाणे वे 10 जिले हैं, जहां देश में उपचाराधीन मरीजों की 25 प्रतिशत संख्या है.