नई दिल्‍ली: गुजरात में राज्‍यसभा चुनाव के दौरान 43 कांग्रेसी विधायकों को अपने यहां आश्रय देने वाले कर्नाटक के ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार ने विधानसभा चुनावों के लिए नामांकन के दौरान 840 करोड़ की कुल संपत्ति की घोषणा की है, जो कि 2013 विधानसभा चुनावों में दिए गए हलफनामे में जिक्र संपत्ति से 589 करोड़ रुपये ज्‍यादा है. 12 मई को होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए बेंगलुरु के पास कनकपुरा निर्वाचन क्षेत्र के लिए गुरुवार को कांग्रेस नेता और ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार ने नामांकन पत्र दाखिल किया. 17 अपैल से अभी तक 100 से अधिक उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र दाखिल किया है, Also Read - स्टार प्रचारक का दर्जा रद्द: कमलनाथ बोले- EC ने मुझे कोई नोटिस नहीं दिया, मेरे वकील देखेंगे इस मामले को

Also Read - Madhya Pradesh by-election: चुनाव आयोग ने कमलनाथ से छीना स्टार प्रचारक का दर्जा, उनकी रैलियों के लिए प्रत्याशी को अपनी जेब से देना होगा खर्चा

इंडियन एक्‍सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, 55 वर्षीय कर्नाटक के ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार कांग्रेस आलाकमान से नजदीकी के चलते मुख्यमंत्री बनने की इच्छा भी पाले हुए हैं. गुरुवार को नामांकन के दौरान दिए गए अपने 94 पेज के हलफनामे में उन्‍होंने 840 करोड़ रुपये की कुल संपत्ति घोषित की. जबकि 2013 विधानसभा चुनाव में में 251 करोड़ रुपये और 2008 विधानसभा चुनाव में 75 करोड़ रुपये की संपत्ति घोषित की थी. इस बार, ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार ने 70,94,84,974 रुपये की चल संपत्तियों दिखाई हैं, जबकि अचल संपत्ति 548,85,20,592 रुपये की है. इसके अलावा बाकी संपत्ति उनकी पत्नी और तीन आश्रितों के नामों पर दिखाया गया है. इसके अलावा उनपर बैंकों एवं वित्तीय संस्थानों का करीब 101.77 करोड़ रुपये से ज्यादा का कर्ज बकाया है. Also Read - फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ भोपाल में मुस्‍लिमों का प्रदर्शन, कांग्रेस विधायक समेत कई पर केस दर्ज

आईटी छापा: कांग्रेस को जेटली का जवाब, रिजॉर्ट में कागज फाड़ रहे थे कांग्रेस नेता

गुजरात राज्‍यसभा चुनाव के दौरान चर्चा में आए

बता दें कि उन्होंने ईगलटन गोल्फ रिज़ॉर्ट में गुजरात के राज्‍यसभा चुनावों के दौरान कांग्रेस के 43 विधायकों को शरण दी थी. उनके इस कदम के बाद ही कांग्रेस नेता अहमद पटेल की जीत सुनिश्चित हो सकी थी. क्‍योंकि उस समय भाजपा गुजरात की राज्‍यसभा की सारी सीटें जीतना चाहती थी. ऐसे में कांग्रेस ने अपने विधायकों को खरीद-फरोख्‍त से बचाने के लिए कर्नाटक भेज दिया था. ऐेसे में कर्नाटक के ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार ने अपने रिर्जाट में उन्‍हें शरण दी. साथ ही कांग्रेस नेता अहमद पटेल के पक्ष में वोट करने के लिए मनाया.

कांग्रेस मंत्री शिवकुमार के ठिकानों पर छापेमारी जारी, अब तक 10 करोड़ रुपये बरामद

आयकर अधिकारियों ने मारे थे छापे

वोक्कलिंगा समुदाय के ताकतवर नेता के रूप में माने जाने वाले डीके शिवकुमार ने कनकपुरा विधानसभा सीट के लिए नामांकन दायर किया. वह विधानसभा चुनावों के लिए पार्टी की प्रचार अभियान समिति का नेतृत्व भी कर रहे हैं. पिछले साल, आयकर विभाग के करीब 120 अधिकारियों के दल ने ऊर्जा मंत्री और उनके परिवार के 39 ठिकानों पर छापे मारे थे. क्‍योंकि आयकर विभाग गुजरात के राज्यसभा चुनावों में धन बल के कथित इस्तेमाल और बड़े पैमाने पर अवैध धन की लेनदेन के आरोपों की जांच भी कर रहा था.

2013 में थी 250 करोड़ की संपत्ति

डीके शिवकुमार कर्नाटक सरकार में ऊर्जा मंत्री रहे और उनके भाई डीके सुरेश बेंगलुरु ग्रामीण सीट से सांसद हैं. ईगल्टन रिजॉर्ट डीके सुरेश की संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत ही आता है. डीके शिवकुमार को कर्नाटक का अगला मुख्यमंत्री भी माना जा रहा है और दिल्ली में कांग्रेस के बड़े नेताओं से उनके अच्छे संबंध बताए जा रहे हैं. डीके शिवकुमार ने 2013 विधानसभा चुनाव में अपनी घोषित संपत्ति 250 करोड़ रुपये बताई थी.