बेंगलूरू: कर्नाटक के लोक निर्माण विभाग मंत्री एच डी रेवन्ना अपने गृहनगर से बेंगलूरू तक आने और वापस जाने में रोजाना 340 किलोमीटर की यात्रा करते हैं. हालांकि वह कहते हैं कि इसका ज्योतिष या वास्तु से कोई लेना-देना नहीं है. मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी के बड़े भाई ने इस थकाने वाली यात्रा के लिए सरकारी बंगला उपलब्ध नहीं होने की वजह बताई. Also Read - केरल के बाद कर्नाटक में जल-प्रलय के हालात, 4 हजार लोग बचाए गए, तमिलनाडु में अलर्ट

खबरों में बताया गया है कि रेवन्ना वास्तु वाला घर नहीं होने की वजह से रोजाना होलेनेरासीपुरा से बेंगलूरू तक 170 किलोमीटर का सफर अपनी कार से करते हैं और इतनी ही दूरी वापसी में भी तय करते हैं. वह ऐसा करते हुए अपने पिता और पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा की सलाह की भी अनदेखी करते हैं. Also Read - कर्नाटक में बजट पेश होने के बाद भी गठबंधन में असंतोष, कांग्रेस नेता ने जताई नाराजगी

हालांकि रेवन्ना ने इन खबरों को खारिज कर दिया. उन्होंने कहा, ‘‘मैं स्वाति नक्षत्र में जन्मा हूं. इस नक्षत्र में जन्मे लोगों पर वास्तु जैसी चीजों का कोई असर नहीं होता. काला जादू और टोना भी हम पर कोई असर नहीं करते. इस नक्षत्र में जन्मे लोगों पर काला जादू करने वालों पर इसका उलटा असर पड़ता है.’’ Also Read - कर्नाटक में सरकार का फॉर्मूला: 22 विभाग कांग्रेस और 12 जदएस को, 2019 का चुनाव साथ लड़ेंगी दोनों पार्टियां

मंत्री ने कहा कि उन्हें रोजाना इतनी लंबी दूरी तय करनी पड़ती है क्योंकि सरकार ने उन्हें आवास आवंटित नहीं किया है. उन्होंने कहा, ‘‘अगर सरकार मुझे घर दे देती तो मैं निश्चित रूप से यहीं रहता. उन्होंने मुझे विधायक आवास तक में घर नहीं दिया. वे जहां चाहें, मैं रहने को तैयार हूं. उन्होंने मुझे घर नहीं दिया, इसलिए रोजाना 340 किलोमीटर सफर कर रहा हूं.’’

मंत्री ने कहा कि पहले उन्हें विधायक आवास में दिया गया घर बंद कर दिया गया है और जो बंगला दिया गया था, उसमें अब भी पूर्व पीडल्ब्यूडी मंत्री एच सी महादेवप्पा रह रहे हैं.