चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने शुक्रवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से अनुरोध किया है कि करतारपुर साहिब गुरुद्वारा जाने वाले तीर्थयात्रियों से 20 डॉलर का सेवा शुल्क न लिया जाए. अमरिंदर ने ट्वीट किया कि मैं इमरान खान से अपील करता हूँ कि पाकिस्तान सरकार द्वारा करतारपुर साहिब जाने वाले तीर्थयात्रियों पर लगाया गया 20 डॉलर का शुल्क वापस लिया जाए. इस्लामाबाद के इस आचरण से विश्व का सिख समुदाय उनका आभारी रहेगा.

 

बाद में दिए गए एक बयान में पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि विश्व में गुरु नानक देव साहिब के ऐतिहासिक गुरुद्वारे की तीर्थयात्रा समूचे सिख समुदाय का सपना सच होने जैसा था. उन्होंने कहा कि शुल्क, पासपोर्ट की अनिवार्यता और यात्रा से तीस दिन पहले ऑनलाइन सूचना देने जैसी बाध्यताएं तीर्थयात्रियों के सपने सच होने में बाधक होंगी क्योंकि बहुत से तीर्थयात्री गरीब हैं और उनके पास इंटरनेट की सुविधाएँ नहीं हैं.

नवम्बर में तीर्थयात्रियों के लिए खोला जाएगा गलियारा
पंजाब के मुख्यमंत्री ने कहा कि गलियारे के निर्माण के लिए सहमत होकर पाकिस्तान सरकार ने प्रशंसनीय कार्य किया है जिसके लिए सिख समुदाय उनका आभारी है. उन्होंने कहा कि इमरान खान सरकार को शुल्क भी हटा लेना चाहिए. इस साल नवम्बर में गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व पर तीर्थयात्रियों के लिए करतारपुर गलियारा खोला जाएगा. (इनपुट एजेंसी)