चेन्नई. सीबीआई ने INX मीडिया मनी लाउंड्रिंग मामले में पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को बुधवार सुबह चेन्नई से गिरफ्तार कर लिया. सीबीआई ने उन्हें फेमा के उल्लंघन के आरोप में गिरफ्तार किया है. INX मीडिया में विदेश निवेश हासिल करने के लिए की गई हेराफेरी की जांच कर रही सीबीआई का कहना है कि कार्ति सहयोग नहीं कर रहे थे. कार्ति चिदंबरम के वकीलों ने भी उनकी गिरफ्तारी की पुष्टि कर दी है. कार्ति लंदन से भारत लौट रहे थे. चेन्नई एयरपोर्ट पर ही सीबीआई की टीम ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया. अब उन्हें दिल्ली लाने की तैयारी की जा रही है.

एयरसेल-मैक्सिस मामले में पी चिदंबरम के खिलाफ भी जांच चल रही है. कांग्रेस ने इसे बदले की भावना से किया गया काम बताया है, वहीं भाजपा का कहना है कि भ्रष्टाचार के खिलाफ जांच एजेंसियां अपना काम कर रही हैं. किसी को अपने आप को कानून से ऊपर नहीं समझना चाहिए. भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने एक ट्वीट में कहा कि अगर भ्रष्ट लोगों को जेल में डाला जा रहा है और कानून अपना काम कर रहा है तो क्यों किसी राजनीतिक दल को इसमें बदले की भावना दिख रही है.

I believe no one should consider oneself above the law of country. If corrupt are being jailed & law is taking its own course, I see no reason why any political party should cry vendetta.This is law,not vendetta: Sambit Patra, BJP on Karti Chidambaram being taken into CBI custody pic.twitter.com/eJkeDo30Kq

INX Media Matter: Enforcement Directorate conduct raid in Chennai | आईएनएक्स मीडिया मामला: प्रवर्तन निदेशालय ने चेन्नई में छापे मारे

INX Media Matter: Enforcement Directorate conduct raid in Chennai | आईएनएक्स मीडिया मामला: प्रवर्तन निदेशालय ने चेन्नई में छापे मारे

इससे पहले कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि बदले की भावना से की गई इस कार्रवाई से उनकी पार्टी डरने वाली नहीं है. पार्टी सच को सामने लाती रहेगी.

सीबीआई इस मामले में पहले ही कार्ति के सीए को भी पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है. दिल्ली की एक अदालत ने कार्ति चिदंबरम के चार्टर्ड एकाउंटेंट (सीए) एस भास्कररमन को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा है. भास्कररमन को आईएनएक्स मीडिया से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार किया गया था.

स्पेशल जज एन के मल्होत्रा ने सीए को तिहाड़ जेल भेज दिया था. इससे पहले उन्हें प्रर्वतन निदेशालय (ईडी) की हिरासत से अदालत में पेश किया गया था. ईडी के विशेष लोक अभियोजक नीतेश राणा ने उनसे और तीन दिन की न्यायिक पूछताछ के लिए अनुमति मांगी थी.

2014 में लोकसभा चुनाव हारे थे कार्ति चिदंबरम, 50 करोड़ से अधिक है संपत्ति

क्या है पूरा मामला
यह पूरा मामला यूपीए सरकार में पी. चिदंबरम के वित्त मंत्री रहने के दौरान INX मीडिया को फॉरेन इन्वेस्टमेंट प्रोमोशन बोर्ड (FIPB) की ओर से फंड हासिल करने के लिए दी गई मंजूरी से जुड़ा है. पीटीआई की रिपोर्ट्स के मुताबिक INX मीडिया ने फॉरेन इन्वेस्टमेंट प्रोमोशन बोर्ड (FIPB) से 13 मार्च, 2007 को विदेश निवेश हासिल करने की अनुमति मांगी थी. FIPB ने INX मीडिया में निवेश की अनुमति दे दी लेकिन INX न्यूज के लिए कोई अनुमति नहीं दी. तत्कालीन वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने INX मीडिया के प्रस्ताव को मंजूर भी दे दी. लेकिन कंपनी ने सिफारिशों का उल्लंघन करते हुए INX न्यूज में विदेशी निवेश हासिल किया और 305 करोड़ रुपये जुटाए.

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की जांच विंग ने साल 2008 में कंपनी से सफाई मांगी, तो उसने कहा कि सब कुछ सिफारिशों के तहत किया गया है. इसके बाद कार्रवाई से बचने के लिए INX न्यूज ने कार्ति के तत्कालीन वित्त मंत्री के साथ रिश्तों का हवाला देते हुए प्रभावित कर मामला सुलझाने की कोशिश की. आरोप है कि कार्ति के प्रभाव के कारण अधिकारियों ने न सिर्फ INX मीडिया की इस अवैधता को नजरअंदाज कर दिया बल्कि अपनी शक्तियों का गलत इस्तेमाल कर उन्हें फायदा पहुंचाया.