नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने बृहस्पतिवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम के पुत्र कार्ति चिदंबरम की विदेश जाने की अनुमति मांगने वाली याचिका पर तुरंत सुनवाई करने से ये कहते हुए इंकार कर दिया कि यह कोई महत्वपूर्ण मुद्दा नहीं है जिस पर तुरंत सुनवाई किए जाने की आवश्यकता है. बता दें कि  कार्ति चिदंबरम के खिलाफ आईएनएक्स मीडिया मामले में आपराधिक मामला दर्ज है जिसके चलते उनके विदेश जाने पर रोक है. Also Read - कोरोना वायरस के बारे में सही सूचना के लिये 24 घंटे में पोर्टल बनाये केन्द्र: सुप्रीम कोर्ट

एयरसेल-मैक्सिस मामला: चिदंबरम पिता-पुत्र को कोर्ट से 26 नवंबर तक मिली गिरफ्तारी से छूट Also Read - Covid-19: कोरोना के चलते मजदूरों का पलायन, केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा- 23 लाख लोगों को दे रहे हैं खाना

क्षमता से ज्यादा मामले हैं
प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति यू यू ललित और न्यायमूर्ति के एम जोसेफ की पीठ ने कहा कि कार्ति चिदंबरम का विदेश जाना कोई जरूरी मुद्दा नहीं है जिस पर तुरंत सुनवाई की जरूरत हो. सर्वोच्च न्यायालय की पीठ ने कहा, ‘‘कार्ति चिदंबरम का विदेश जाना इतना महत्वपूर्ण नहीं है कि उसे अन्य मामलों पर तरजीह दी जाए.’’ तुरंत सुनवाई से इंकार करते हुए शीर्ष अदालत ने कहा कि न्यायाधीशों के पास उनकी क्षमता से ज्यादा मामले हैं.(इनपुट एजेंसी)

जिला जज के चेंबर में घुसने से रोका तो वकीलों ने दारोगा को पीटा, एसपी का छीना मोबाइल