नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के कासगंज में हुई सांप्रदायिक हिंसा में मारे गए युवक चंदन गुप्ता की हत्या का आरोपी सलीम गिरफ्तार कर लिया गया है. सलीम को कासगंज से ही गिरफ्तार किया गया है. पुलिस पिछले चार दिनों से सलीम की तलाश कर रही थी. चंदन गुप्ता हत्याकांड में सलीम, वासिम और नसीम मुख्य आरोपी हैं. वासिम और नसीम अभी भी फरार हैं. Also Read - Uttar Pradesh News: भदोही में दलित महिला के साथ बलात्‍कार, मामला दर्ज

कासगंज हिंसा के दौरान हुई चंदन गुप्ता की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी को आज गिरफ्तार कर लिया गया. पुलिस महानिरीक्षक अलीगढ़ संजीव गुप्ता ने कहा कि मुख्य आरोपी सलीम को गिरफ्तार कर लिया गया है. अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) कार्यालय के एक अधिकारी ने ‘भाषा’ को बताया कि सलीम की गोली से ही चंदन गुप्ता की मौत हुई है इसलिए मुख्य आरोपी वही है. सलीम की उम्र के बारे में पूछे जाने पर अधिकारी ने कहा कि पूरा ब्यौरा अभी हासिल नहीं हुआ है लेकिन सलीम की उम्र 30 वर्ष से कम है. Also Read - यूपी के गोरखपुर में नाबालिग से गैंगरेप, रिपोर्ट दर्ज नहीं करने के आरोप में 2 पुलिसकर्मी निलंबित

उन्होंने कहा कि सलीम और मामले के अन्य आरोपियों को लेकर जानकारी जुटायी जा रही है और जल्द ही पूरे मामले का खुलासा कर दिया जाएगा. पुलिस के मुताबिक कासगंज में तनाव है लेकिन स्थिति नियंत्रण में है. आम जनजीवन पटरी पर लौटता दिख रहा है. हिंसा की छिटपुट वारदात हुई लेकिन चौकस पुलिस बलों ने स्थिति नियंत्रण में कर ली. आज स्थिति तेजी से सामान्य होती नजर आ रही है. अधिकारियों ने बताया कि कासगंज हिंसा पर केन्द्र की ओर से रिपोर्ट तलब की गई है. रिपोर्ट तैयार हो रही है. Also Read - UP News: आज से 5 अप्रैल तक के लिए Lucknow में लगी धारा 144, रहेंगी ये पाबंदियां, जानिए

कासगंज हिंसा के दौरान उपद्रवियों ने कई दुकानों, बसों और एक कार को आग के हवाले कर दिया. यहां तिरंगा यात्रा के दौरान जुलूस पर पथराव के बाद हिंसा भड़क उठी थी. हिंसा के बाद 118 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. शहर में बड़ी तादाद में पुलिस बल तैनात किया गया है. रैपिड एक्शन फोर्स और पीएसी के जवान स्थिति पर नजर बनाये हुए हैं. अफवाहें फैलाने वालों और उपद्रवियों को लेकर प्रशासन पूरी तरह सतर्क है.

चंदन को शहीद का दर्जा नहीं

वहीं इलाहाबाद हाईकोर्ट में दाखिल याचिका पर सुनवाई करते हुए अदालत ने चंदन गुप्ता को शहीद का दर्जा देने और 50 लाख रुपये मुआवजे की अर्जी ठुकरा दी है. अदालत ने एनआईए जांच की मांग भी ठुकराते हुए कहा कि इस मामले में पुलिस की जांच जारी है और मुआवजा दिया जा चुका है.

सलीम के छत से चंदन को मारी गई गोली

दरअसल गणतंत्र दिवस के दिन कासगंज में हुई सांप्रदायिक हिंसा में 22 वर्षीय चंदन की मौत हो गई थी. इसमें सलीम को मुख्य आरोपी बनाया गया था. कहा जा रहा है कि सलीम ने ही छत से चंदन के ऊपर गोली चलाई थी.

तिरंगा यात्रा के दौरान हिंसा

26 जनवरी के दिन कुछ लोगों द्वारा तिरंगा यात्रा निकाली जा रही थी. यात्रा के दौरान ही दो समुदायों के बीच झड़प हो गई थी. यह झड़प देखते ही देखते इतनी बढ़ गई कि इसने सांप्रदायिक हिंसा का रूप ले लिया. दोनों गुटों के बीच हुई इस झड़प में जहां चंदन की मौत हो गई थी तो वहीं अकरम नाम के एक शख्स की एक आंख फूट गई थी.

अब तक इस मामले में 117 लोगों को गिरफ्तार किया गया हैं. हिंसा में दर्ज 5 एफआईआर के तहत 36 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि 81 लोगों को धारा-144 के उल्लंघन के आरोप में अरेस्ट किया गया है. कासगंज हिंसा के दौरान शहर में आगजनी की 7 एफआईआर भी दर्ज की गई हैं.

नामजद आरोपियों की लिस्ट

चंदन हत्याकांड के नामज़द आरोपियों की लिस्ट में सलीम, वसीम, नसीम मुख्य आरोपी हैं. इनके अलावा जाहिद जग्गा, आसिफ़ हिटलर को भी आरोपी बनाया गया है. असलम, असीम, नसरुद्दीन, आकरम, तौफीक, खिल्लन, शबाब, राहत, सलमान, मोहसिन, साकिब, बब्लू, नीशू और वासिफ को भी आरोपी बनाया गया है.