गूगल ट्रेंड एनालिसिस टूल (Google Trends analysis tool) के आंकड़ों के मुताबिक पिछले 15 वर्षों के दौरान पहली बार जम्मू और कश्मीर क्षेत्र के बारे में सबसे ज्यादा गूगल सर्च किया गया. दरअसल, राज्य से अनुच्छेद-370 को हटाने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने के बाद यह मुद्दा दुनिया में छाया हुआ है. दुनिया के तमाम मंचों पर पाकिस्तान कश्मीर का मुद्दा लगातार उठाता रहा है. इस कारण इसको लेकर लोगों की दिलचस्पी बढ़ गई.

इस अगस्त में इंटरनेट यूजर्स ने ‘कश्मीर’ को गूगल पर सर्च करने का एक अनोखा रिकॉर्ड बनाया है. इससे पहले फरवरी के महीने में जब एक आत्मघाती हमलावर ने कश्मीर के पुलवामा जिले में 40 अर्धसैनिक बलों के जवानों की हत्या कर दी थी तब लोगों ने ‘कश्मीर’ को बहुत सर्च किया था. लेकिन गूगल ट्रेंड्स के अनुसार अगस्त में ये स्तर फरवरी से दोगुना था. लोगों ने अगस्त के महीने में ‘जम्मू एंड कश्मीर’ शब्द से भी इंटरनेट पर बहुत सर्च किया था मगर ‘कश्मीर’ शब्द को दुनिया ने इससे 10 गुना ज्यादा बार सर्च किया.

गूगल के डाटा से पता चलता है कि दुनिया के विभिन्न हिस्सों से लोगों ने “कश्मीर” को लेकर रूचि दिखाई है. सबसे दिलचस्प बात तो ये है कि उन आठ देशों में जो क्षेत्रीय सहयोग के लिए दक्षिण एशियाई एसोसिएशन का हिस्सा हैं उनमें से छह देशों में पिछले दस सालों से सबसे ज्यादा बार “कश्मीर” को सर्च किया गया. और, जी-7 समूह के सात देशों में से  5 देश में इसे बहुत ज्यादा सर्च किया गया.

पाकिस्तान में फरवरी से तीन गुना ज्यादा बार “कश्मीर” शब्द को अगस्त में गूगल पर सर्च किया गया. गूगल ट्रेंड्स सर्च उस शब्द से सर्च किए गए प्रश्नों पर भी डाटा देता है. दुनियाभर में अगस्त के महीने में सर्च किए गए उन प्रश्नों में “अनुच्छेद 370”,  “कश्मीर ध्वज”, “कश्मीर मानचित्र” और “कश्मीर मुद्दा” शामिल थे.