पूरे देश में ईद का जश्न है लेकिन ईद के मौके पर कश्मीर का माहौल अब भी थोड़ा अलग है। इस मौके पर अशांति न फैले, इसलिए कश्मीर घाटी के सभी 10 ज़िलों में कर्फ्यू लगा दिया गया है। इस दौरान सुरक्षाबल चॉपर और ड्रोन से भी नज़र रखेंगे, ताकि किसी तरह की अप्रिय घटना को अंजाम न दिया जा सके।Also Read - अब श्रीनगर में भी ड्रोन-UAV पर लगा टोटल बैन, जानिए जिनके पास पहले से हैं वो क्या करेंगे?

Also Read - तमिलनाडु का नौसैनिक अड्डा 3 किमी के दायरे में कर देगा ड्रोन को नष्ट, चीन की हरकतों पर रखता है 'निगाह

राज्य सरकार ने सभी टेलीकॉम नेटवर्क को इंटरनेट सेवाएं अगले 72 घंटे तक बंद रखने का आदेश कल जारी किया है। कश्मीर में करीब दो महीने से अशांति का माहौल है और अब तक 70 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। Also Read - Jammu Air Force Base में ड्रोन से हमले का संदेह, निशाने पर थे पार्किंग में खड़े एयरक्राफ्ट

सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक सेना से तैयार रहने के लिए कहा गया है और अगर घाटी में हिंसा होती है तो सेना मोर्चा संभालेगी। सेना के जवानों की ग्रामीण क्षेत्रों के उन बिन्दुओं पर पहले ही तैनाती की गई है, जिनका हिंसक प्रदर्शनों का इतिहास रहा है। यह भी पढ़ें: कश्मीर हिंसा: पाकिस्तान के नापाक मंसूबो को लेकर बड़ा खुलासा, देखें वीडियो

मध्यरात्रि से कर्फ्यू लागू करने की आशंका है। आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि बड़ी संख्या में लोगों के एकत्रित होने पर प्रतिबंध लगाने का फैसला कल संयुक्त राष्ट्र के स्थानीय कार्यालयों तक अलगाववादियों के मार्च के आह्वान को ध्यान में रखकर किया गया है।

कश्मीर में वर्ष 1990 में आतंकवाद शुरू होने के बाद संभवत: यह पहली बार है जब ईद के मौके पर कर्फ्यू लगाया जाएगा। इसके अलावा इन इलाकों में हेलीकॉप्टर और ड्रोन आसमान से पैनी नजर रखेंगे और कुछ क्षेत्रों में लोगों के एकत्रित होने की स्थिति में सुरक्षाबलों को पूर्व चेतावनी देंगे। उन्होंने कहा कि अलगाववादी तत्वों द्वारा हिंसा की आशंका को देखते हुए सड़कों पर पर्याप्त संख्या में सुरक्षाबलों को तैनात किया जाएगा।

आतंकवाद की शुरुआत से अब तक 26 वर्ष में यह पहली बार है कि ईदगाह और हजरबल धार्मिक स्थलों पर ईद के मौके पर लोगों को एकत्रित होने की अनुमति नहीं होगी। सूत्रों ने कहा कि हालांकि लोगों को स्थानीय मस्जिदों में ईद की नमाज पढ़ने की अनुमति होगी। सरकार ने अगले 72 घंटों के लिए सभी दूरसंचार नेटवर्क की इंटरनेट सेवा और मोबाइल टेलीफोन सेवा को बंद करने का आदेश दे दिया है। केवल बीएसएनएल को इससे बाहर रखा गया है।