नई दिल्ली| मुख्यमंत्री अरविंद् केजरीवाल ने बुधवार को दिल्ली हाईकोर्ट से कहा कि केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली द्वारा उनके खिलाफ दायर मानहानि के मामले के संदर्भ में 1999 से 2014 के बीच दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) की बैठकों का ब्यौरा जरूरी है क्योंकि यह इस मामले में उनके बचाव का आधार है. Also Read - ट्यूशन फीस माफ करने को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर, जानिए क्या है पूरा मामला 

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने साथ ही न्यायमूर्ति मनमोहन के समक्ष कहा कि यह केंद्रीय मंत्री दिसंबर 1999 से 2013 के बीच डीडीसीए का अध्यक्ष रहा और उन्हें क्रिकेट संघ के मौजूदा और पूर्व निदेशकों से संघ में कथित अनियमितताओं की शिकायत मिली. Also Read - दिल्ली हाई कोर्ट ने डीयू को दिया निर्देश, कहा- फाइनल ईयर एग्जाम के संबंध में जानकारी देते हुए दाखिल करें हलफनामा 

केजरीवाल की ओर से पेश वकील अनुपम श्रीवास्तव ने भी कहा कि जेटली के मुकदमे में उनके लिखित बयान में ये रिकार्ड निश्चित तौर पर बचाव का आधार होंगे. Also Read - DU Open Book Exam 2020: डीयू ने हाई कोर्ट से कहा- फाइनल ईयर की परीक्षा को अगले महीने के टाल दिया है