केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) ने कोविड-19 (Covid-19) के कारण राज्य के लोगों के दाखिल होने पर कर्नाटक सरकार द्वारा नई पाबंदी लागू किए जाने के मद्देनजर केंद्र से तुरंत दखल देने का अनुरोध किया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को भेजे गए एक पत्र में उन्होंने कहा कि पाबंदी के कारण छात्रों, जरूरी सामान ले जा रहे ट्रकों, मरीजों समेत काफी लोगों को राज्य की सीमाओं पर दिक्कतें हो रही हैं. Also Read - Ranbir Kapoor कोव‍िड-19 पॉजिटिव न‍िकले, मां नीतू कपूर ने Instagram पर लिखी ये बात

विजयन ने इस बारे में भी प्रधानमंत्री का ध्यान आकृष्ट किया है कि राज्यों के लोगों के अंतर-राज्यीय आवागमन पर पाबंदी लगाना केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों के खिलाफ है. विजयन ने कहा, ‘मैं आपसे इस मामले में तुरंत दखल देने का अनुरोध करता हूं ताकि केरल से पड़ोस के कर्नाटक जाने वाले लोगों को कठिनाइयों से बचाया जा सके.’ Also Read - MP: एयर एम्बुलेंस से चेन्नई भेजे गए मध्य प्रदेश के "कोरोना योद्धा" डॉक्टर ने तोड़ा दम

कोविड-19 (Coronavirus) के मामलों में बढ़ोतरी के कारण केरल से आने वाले यात्रियों को लेकर कर्नाटक सरकार ने पाबंदियां बढ़ा दी है. इस वजह से मंगलुरु और दक्षिण कन्नड़ के दूसरे भागों में जाने वालों को भारी दिक्कतें हो रही रही है. राष्ट्रीय राजमार्ग समेत कई सड़कों को सील किए जाने के कारण सीमावर्ती क्षेत्रों में सोमवार सुबह से ही वाहनों की लंबी कतारें देखी गयीं. कोविड-19 संक्रमण नहीं होने का प्रमाणपत्र रखने वाले लोगों को ही प्रवेश की अनुमति दी जा रही है. Also Read - Covid-19: देश में आए 15,388 नए केस, सक्रिय मामलों में 6 दिन लगातार तेजी के बाद आज आई कमी

सूत्रों ने बताया कि चार सड़कों को छोड़कर दक्षिण कन्नड़ प्रशासन ने सभी सीमाओं को बंद कर दिया है. सीमा पर तैनात कर्नाटक के अधिकारियों के मुताबिक जो लोग राज्य में दाखिल होना चाहते हैं उन्हें यात्रा से 72 घंटे पहले तक की आरटी-पीसीआर जांच का प्रमाणपत्र दिखाने के लिए कहा जा रहा है. मंगलुरु तालुका में तलापडी, बंटवाल में सराडका, पुत्तुर तालुक में नेतानिगे-मुदनुरु और सुल्लिया के जलसूर में सीमाओं पर तैनात स्वास्थ्य और पुलिसकर्मी प्रमाणपत्रों का सत्यापन करने के बाद ही लोगों को कर्नाटक में प्रवेश की अनुमति दे रहे हैं.

(इनपुट: भाषा)