Kerala Exit polls 2021: केरल के एग्जिट पोल के नतीजे आ चुके हैं. इसके मुताबिक राज्य में एक बार फिर से एलडीएफ की सत्ता में वापसी होते दिख रही है. बता दें कि केरल विधानसभा चुनाव के नतीजे 2 मई को सामने आएंगे. हालांकि उससे पहले एग्जिट पोल में माकपा नीत एलडीएफ फिर से सरकार बनाती नजर आ रही है.Also Read - Petrol-Diesel Price : केंद्र की कटौती के बाद राजस्थान-केरल ने पेट्रोल-डीजल पर घटाया वैट, अब अन्य राज्यों की बारी

बता दें कि केरल में मुख्य मुकाबला एलडीएफ और कांग्रेस की अगुवाई वाले यूडीएफ के बीच है. दूसरी ओर, भाजपा की अगुवाई वाले राजग ने एक प्रमुख तीसरा मोर्चा बनने की उम्मीद जताई है. हालांकि भाजपा को केरल में दो से तीन सीटें मिलती दिख रही हैं. बता दें कि केरल में पिछले 40 सालों की यानी 1980 से हर पांच साल के बाद सत्ता परिवर्तन की परंपरा चली आ रही है. लेकिन इस बार के एग्जिट पोल में ये ‘परंपरा’ टूटती दिख रही है. Also Read - केंद्र के बाद केरल सरकार ने पेट्रोल-डीज़ल के दाम घटाए, जानें कितनी कटौती की

रिपब्लिक-सीएनएक्स के सर्वे के मुताबिक, केरल में एलडीएफ को 72-80 सीटें मिलने का अनुमान लगाया जा रहा है. वहीं कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूडीएफ को 58 से 64 सीटें मिल सकती हैं. एनडीए को 1 से 5 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है. Also Read - अरविंद केजरीवाल ने केरल में राजनीतिक पार्टी से गठबंधन किया, राज्य में पैठ बढ़ाने की कोशिश शुरू

इंडिया टुडे-एक्सिस माय इंडिया के एग्जिट पोल में केरल में एलडीएफ की सरकार बन सकती है. सीटों की बात करें तो लेफ्ट पार्टी को 104-120 सीटें, यूडीएफ (कांग्रेस नीत) 20 से 36 सीटें, एनडीए (भाजपा नीत) को 0-2 सीटों मिलने की संभावना है.

बता दें कि 6 अप्रैल को तमिलनाडु, पुडुचेरी, असम और बंगाल के साथ केरल में भी चुनाव कराए गए थे. चुनाव आयोग के मुताबिक राज्य में कुल 74.02 प्रतिशत मतदान हुआ था. हालांकि ज्यादातर एग्जिट पोल में लेफ्ट के अगुआ पिनराई विजयन को एक बार फिर से सीएम बनते दिखाया गया है.

केरल विधानसभा में 140 सीटें हैं. 2016 में हुए विधानसभा चुनाव में कम्युनिस्ट पार्टी की अगुवाई वाले गठबंधन लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट ने 91 सीटों पर जीत हासिल की थी. पिनाराई विजयन राज्य के 12वें मुख्यमंत्री बने.