Kerala: खाने की वस्तुओं की बढ़ती कीमतों के बीच यदि कोई होटल लोगों को महज 20 रुपए में लज़ीज भोजन उपलब्ध कराए तो सुन कर हैरानी होगी. लेकिन ये सच है, केरल में होटल की एक श्रृंखला इतने ही रुपए में लोगों को भोजन करा रही है, जो कोरोना वायरस संक्रमण से प्रभावित हुए दैनिक कामगारों के लिए बेहद राहत देने वाला कदम है. लोग इसकी खूब तारीफ कर रहे हैं.Also Read - Azadi Ka Amrit Mahotsav: ‘आजादी के अमृत महोत्सव से स्वर्णिम भारत की ओर’ कार्यक्रम की हुई शुरुआत, पीएम मोदी ने किया संबोधित

केरल में महिलाओं के नेटवर्क कदमश्री द्वारा संचालित ‘जनकिया होटल्स’ प्रतिदिन 20 रुपए में औसतन 70,000 लोगों के लिए भोजन की बिक्री करता है. कदमश्री गरीबी उन्मूलन मिशन है और राज्य सरकार का महिला सशक्तीकरण का सबसे सफल मॉडल है. Also Read - Kerala Wife Swapping Racket Busted: वाइफ स्वैपिंग रैकेट का भंडाफोड़, 1000 कपल्स जुड़े थे; Watch Video

कदमश्री स्वयंसेवियों द्वारा इन किफायती होटलों के जरिए 20अरुपए में भोजन का पैकटों की बिक्री संकट के समय में लोगों के बीच काफी लोकप्रिय हुई. कदमश्री के कार्यकारी निदेशक एस हरिकिशोर कहते हैं कि यह मिशन के लिए एक ऐतिहासिक उपलब्धि है कि महामारी और लॉकडाउन के बावजूद उसके द्वारा स्थापित किफायती होटलों की संख्या 700 के पार चली गई है. Also Read - Rajasthan के शिक्षामंत्री ने दिया अजब-गजब बयान-महिला कर्मचारी तो आपस में इतना लड़ती हैं कि...

उन्होंने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा,‘‘जनकिया होटल्स एक दिन में औसतन 70,000 भोजन के पैकेट 20 रुपए के रियायती दरों पर देते हैं। हमने साबित किया है कि हम लॉकडाउन के वक्त में भी लोगों को गुणवत्ता परक भोजन इस दर पर उपलब्ध करा सकते हैं. पद्मावती घरों में काम करती हैं और उनका कहना है कि महामारी के वक्त उसे कई दिन तक सिर्फ होटल का ही आसरा था.

जनकिया होटल्स की स्थापना एलडीएफ सरकार के ‘‘भूख मुक्त केरल’’ परियोजना के तहत की गई थी. गौरतलब है कि राज्य का 2020-21 का बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री टी एम थॉमस इसाक ने कहा था कि राज्य सरकार आम आदमियों के एक हजार होटल खोलेगी, जहां रियासती दरों पर भोजन मुहैया कराया जाएगा.