कोझीकोड (केरल): परंबरा के निकट एक कॉलेज के छात्रों ने परिसर में चुनाव प्रचार के दौरान पाकिस्तान के राष्ट्रीय ध्वज से मिलता-जुलता झंडा लहराया, जिसके बाद कॉलेज के छह छात्रों को निलंबित कर दिया है और पुलिस ने इस संबंध में एक प्राथमिकी दर्ज की है. हरे रंग का झंडा कॉलेज में हो रहे चुनाव को लेकर मुस्लिम स्टूडेंट्स फेडरेशन (एमएसएफ) द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में लहराया गया.

एमएसएफ इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) की छात्र इकाई है. एमएसएफ नेतृत्व ने हालांकि आरोपों को खारिज कर दिया और दावा किया कि यह संगठन का आधिकारिक झंडा है, न कि पाकिस्तान का राष्ट्रीय ध्वज, जैसा कि आरोप लगाया जा रहा है. पुलिस ने रविवार को पीटीआई-भाषा को बताया कि सिल्वर आर्ट्स एंड साइंस कॉलेज में 27 अगस्त को हुई घटना का वीडियो फुटेज सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद एक मामला दर्ज किया गया है.

मामला आईपीसी की धारा 153 (बलवा कराने के आशय से जानबूझकर भड़काना), धारा 143 (गैर कानूनी तरीके से जमा होना) और धारा 147 (बलवे के लिये सजा) के समेत विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है. एक जांच अधिकारी ने बताया, ‘‘यह घटना वीडियो फुटेज के वायरल होने के बाद प्रकाश में आई. गैर कानूनी तरीके से जमा होने और बलवा कराने के आशय से भड़काने समेत अन्य आरोपों के लिये मामला दर्ज किया गया है. व्यापक जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी.’’ अधिकारी ने कहा, ‘‘इस विवादास्पद झंडे में एमएसएफ का लोगो भी नहीं था. यह मानक आकार के अनुपात में भी नहीं था.’’ इस संबंध में कॉलेज के छह छात्रों को निलंबित कर दिया गया है और वे फरार हैं. अधिकारी ने बताया कि उन्हें पकड़ने के लिये तलाश जारी है.

आरिफ मोहम्‍मद खान समेत 4 नए राज्‍यपालों की नियुक्‍त‍ि, कलराज‍ मिश्रा का तबादला