तिरूवनंतपुरम: डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया (डीवाईएफआई) की एक महिला नेता ने माकपा विधायक पी के शशि पर यौन शोषण की कोशिश करने का आरोप लगाया है. पार्टी ने आरोपों को लेकर जांच शुरू कर दी है.

माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने मंगलवार को नयी दिल्ली में संवाददाताओं से कहा कि उन्हें शिकायत मिली है. उन्होंने कहा, ‘‘हां मुझे कल शिकायत मिली और उसे केरल इकाई के पास भेज दिया गया है. उन्होंने इसे लेकर जांच शुरू दी है. यह हमारी सामान्य प्रक्रिया है.’’ महिला ने पार्टी के राष्ट्रीय नेतृत्व से शिकायत की है.

डीवाईएफआई नेता ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया कि शोरनुर के विधायक ने पलक्कड के मनरकौद में पार्टी कार्यालय में उसका यौन शोषण करने की कोशिश की. गत 14 अगस्त को माकपा पोलित ब्यूरो की सदस्य वृंदा कारत के पास शिकायत भेजी गयी थी और कल येचुरी को एक ईमेल भेजा गया.

जानिए जस्टिस रंजन गोगोई को, जो होंगे देश के अगले मुख्य न्यायाधीश

इसी बीच शशि ने दावा किया कि उन्हें शिकायत की जानकारी नहीं थी. हालांकि उन्होंने कहा कि यह उनकी राजनीतिक छवि खराब करने की ‘‘सुनियोजित साजिश’’ है. विधायक ने कहा, ‘‘कई लोग हैं जो राजनीतिक रूप से मुझे बर्बाद करना चाहते हैं. मैंने कई बार मुश्किल समय को पीछे छोड़ा है. मुझे पार्टी स्तर की जांच की जानकारी नहीं है. जांच होती है तो मैं एक अच्छे कम्युनिस्ट की तरह उसका सामना करूंगा.’’

सिद्धू की पाकिस्‍तान यात्रा पर अमरिंदर का बयान, पाक सेना प्रमुख से गले मिलना गलती थी

माकपा की केरल इकाई के सचिव के बालकृष्णन ने कहा कि पार्टी को तीन हफ्ते पहले शिकायत मिली थी और पार्टी इसे लेकर उचित कार्रवाई कर रही है. यह पूछे जाने पर कि क्या शिकायत पुलिस को सौंपी जाएगी, उन्होंने कहा कि शिकायत पार्टी से की गयी है ना कि पुलिस से.

पीएम मोदी से सुपरस्टार मोहनलाल की मुलाकात के बाद लग रहे कयास, 2019 का नया टि्वस्ट!

महिला कांग्रेस अध्यक्ष लतिका सुभाष ने विधायक के इस्तीफे की मांग की जबकि युवा कांग्रेस के अध्यक्ष डी कुरियाकोस ने उनके खिलाफ मामला दर्ज करने और गिरफ्तार करने की मांग की. भाजपा नेता के सुरेंद्रन ने शिकायत पुलिस को ना सौंपने के लिए वृंदा करात की आलोचना की.