लखनऊ: नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी.शर्मा ओली के भगवान राम पर दिये गए बयान को लेकर उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या भड़क गए हैं. उन्होंने ओली पर निशाना साधा और कहा कि शर्मा ‘ओली’ का अमर्यादित बयान उनके मानसिक दिवालियापन को दर्शाता है. नेपाल भी पहले आर्यावर्त (भारत) का हिस्सा रहा है. केशव प्रसाद मौर्या ने मंगलवार को ट्विटर के माध्यम से लिखा, “मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम जी की जन्मस्थली को लेकर नेपाल के कम्युनिस्ट प्रधानमंत्री श्री के.पी.शर्मा ‘ओली’ जी का अमर्यादित बयान उनके मानसिक दिवालियापन को दर्शाता है. जाको प्रभु दारुण दुख दीन्हा . ताके मति पहिले हर लीन्हा. ओली जी को मालूम होना चाहिए कि नेपाल भी पूर्व में आर्यावर्त (भारत) का हिस्सा रहा है.” Also Read - अयोध्या में मिली ज़मीन पर मस्जिद के पक्ष में नहीं है मुस्लिम निकाय, कहा- हॉस्पिटल और स्कूल बने

ज्ञात हो कि काठमांडु में पीएम आवास में सोमवार को आयोजित एक कार्यक्रम में ओली ने कहा, अयोध्या असल में नेपाल के बीरभूमि जिले के पश्चिम में स्थित थोरी शहर में है. भारत दावा करता है कि भगवान राम का जन्म वहां हुआ था. उसके इसी लगातार दावे के कारण हम मानने लगे हैं कि देवी सीता का विवाह भारत के राजकुमार राम से हुआ था. जबकि असलियत में अयोध्या बीरभूमि के पास स्थित एक गांव है. नेपाल के प्रधानमंत्री ओली ने भारत पर सांस्कृतिक अतिक्रमण का आरोप लगाते हुए कहा, भारत ने एक नकली अयोध्या का निर्माण किया है. Also Read - अयोध्‍या के राम मंदिर का 1000 साल का होगा जीवन काल, तेज भूकंप से भी नहीं होगा नुकसान

उन्होंने दावा किया कि वाल्मिकी आश्रम नेपाल में है और वह पवित्र स्थान जहां राजा दशरथ ने पुत्र के जन्म के लिए यज्ञ किया था वह रिदि है. उन्होंने कहा कि दशरथ पुत्र राम भारतीय नहीं थे और असली अयोध्या भी नेपाल में है. ओली ने अपने इन ओछे दावों पर अजीबोगरीब दलील देते हुए कहा कि जब संचार का कोई तरीका ही नहीं था तो भगवान राम सीता से विवाह करने जनकपुर कैसे आए? उन्होंने यह भी दावा किया कि भगवान राम के लिए तब यह असंभव था कि वह भारत में स्थित मौजूदा अयोध्या से जनकपुर तक आते. ओली ने कहा, जनकपुर यहां और अयोध्या वहां है और हम विवाह की बात कर रहे हैं. तब न मोबाइल फोन था और ना ही टेलीफोन, तो उन्हें जनकपुर के बारे में कैसे पता चला.