Kisan Andolan: किसान आंदोलन को 65 दिन से अधिक हो गए हैं. पिछले कुछ दिनों में किसान आंदोलन को लेकर बड़े घटनाक्रम देखने को मिले हैं. इसी क्रम में आज एक बार फिर किसान आंदोलन के बीच गृह मंत्रालय में बड़ा फैसला लिया है. गृह मंत्रालय (Home Ministry) ने किसान आंदोलन (Kisan Andolan) के मुख्य केंद्र सिंघु बॉर्डर, गाजीपुर बॉर्डर और टिकरी बॉर्डर की इंटरनेट सेवाएं रोक दी हैं.
गृह मंत्रालय द्वारा जारी सूचना के अनुसार, 29 जनवरी की रात 11 बजे से ही इंटरनेट सेवाएं रोक दी गईं. ये सेवाएं 31 जनवरी तक बाधित रहेंगी.Also Read - Rakesh Tikait ने क्यों कहा- खत्म नहीं हुआ है किसानों का आंदोलन? जानें 26 जनवरी का क्या है 'प्लान'

सिंघु बॉर्डर (Singhu Border), गाजीपुर बॉर्डर (Ghazipur Border) और टिकरी बॉर्डर के साथ ही इनके आसपास के इलाकों में भी इंटरनेट बंद किया गया है. गृह मंत्रालय ने इंटरनेट बंद किये जाने के पीछे वजह भी बताई है. गृह मंत्रालय ने कहा है कि सुरक्षा कारणों से ऐसा किया गया है. ये पहला मौका नहीं है जब इंटरनेट सेवाएं बंद की गई हैं. Also Read - कुछ लोग नमाज को शक्ति प्रदर्शन के लिए इस्तेमाल करते हैं, ऐसा नहीं होना चाहिए : मनोहर लाल खट्टर

Also Read - Rakesh Tikait ने क्यों कहा, PM नरेंद्र मोदी को माफी मांगते नहीं देखना चाहते, पढ़ें क्या है पूरा मामला

इससे पहले 26 जनवरी को दिल्ली-एनसीआर (Delhi NCR) के कई हिस्सों में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई थी. ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा के बीच ये कदम उठाया गया था. कुछ दिन पहले तक लग रहा था कि किसान आंदोलन ख़त्म हो जायेगा, कई लोग लौटने भी लगे थे. लेकिन किसान नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) की अपील पर एक बार फिर बड़ी संख्या में लोग दिल्ली की सीमाओं पर पहुँच गए हैं. किसान कृषि कानूनों (Farm Laws) को वापस लेने की मांग कर रहे हैं.