Kisan Andolan Latest Updates: नए कृषि कानूनों को लेकर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने केंद्र सरकार पर आंदोलन को खत्म करने के लिए किसानों में विभाजन करने की कोशिश का आरोप लगाया है. किसान नेताओं ने कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को पत्र लिखकर सरकार से नए कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए संसद का विशेष सत्र बुलाने और किसानों की एकता को भंग करने के लिए ‘‘विभाजनकारी एजेंडे में नहीं शामिल होने’’ की मांग की. Also Read - Kisan Andolan: हरियाणा के इन 3 जिलों में कल शाम 5 बजे तक इंटरनेट और SMS सेवाएं रहेंगी बाधित 

यह पत्र नये कृषि कानूनों पर जारी गतिरोध को दूर करने के लिए केंद्र और किसान नेताओ के बीच होने वाली अगले दौर की वार्ता से एक दिन पहले आया है. आंदोलन की अगुवाई कर रहे संयुक्त किसान मोर्चो को-ऑर्डिनेशन कमिटी ने पत्र में कहा है- ‘‘हम सरकार से किसान आंदोलन के संबंध में किसी भी विभाजनकारी एजेंडे में शामिल नहीं होने की मांग करते हैं क्योंकि यह आंदोलन इस वक्त अपनी मांगों पर एकजुट है. यह कल की बैठक प्रक्रिया से स्पष्ट है.’’ Also Read - Kisan Andolan: ट्रैक्टर रैली में हुई हिंसा के बाद किसानों ने बजट के दिन संसद मार्च की योजना टाली

पत्र के अनुसार नेताओं ने केंद्र से यह सुनिश्चित करने की मांग की कि विभिन्न किसान संगठनों एवं उनके गठबंधनों के प्रतिनिधि किसान तय करें न कि सरकार तय करे तथा इस आंदोलन के अगुवा ऑल इंडिया गठबंधन को चर्चा में प्रतिनिधित्व मिले. Also Read - किसानों ने हमें धोखा दिया, दोषियों को नहीं छोड़ेंगे, कड़ी कार्रवाई करेंगे: दिल्ली पुलिस