Kisan Andolan Live Updates: गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा के बाद किसानों के आंदोलन (Farmers Protest) को लेकर विरोध के स्वर तेज हो गए हैं. नए कृषि कानूनों (New Farms Law 2020) के विरोध में बीते दो महीनों से गाजीपुर बॉर्डर (Ghazipur Border) पर डेरा डालकर बैठे किसानों को हटाने के लिए पुलिस ने कमर कस ली है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने सभी डीएम और SSP को आदेश दिया है कि वे राज्य में चल रहे सभी किसान आंदोलन समाप्त करें. Also Read - Kisan Andolan: किसान आंदोलन से NHAI के सामने बड़ी चुनौतियां, कई प्रोजेक्ट के काम लटके

Farmers Protest Live Updates:

  Also Read - Kisan Andolan: आंदोलन तेज करेंगे किसान- SKM का ऐलान, चुनावी राज्यों में BJP का करेंगे विरोध और 12 मार्च को...

–  कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा, ‘यह एक साइड चुनने का समय है. मेरा फैसला साफ है. मैं लोकतंत्र के साथ हूं, मैं किसानों और उनके शांतिपूर्ण आंदोलन के साथ हूं. Also Read - Baba Jagpal: बाबा जगपाल महाराज, धूप में बैठ कर रहे तप, 11 दिन तक नहीं खाएंगे अन्न

– राकेश टिकैत ने कहा कि वह सिर्फ सरकार से बात करेंगे, पुलिस-प्रशासन से बात नहीं करेंगे.

– दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर  पर लगे किसानों के टेंट को हटाया जा रहा है.

–  गाजीपुर बॉर्डर पर यूपी पुलिस, दिल्ली पुलिस और RAF के जवानों को तैनात किया गया है.

–  गाजियाबाद के ADM सिटी शैलेन्द्र कुमार सिंह ने बताया कि CRPC की धारा 133 (उपद्रव हटाने के सशर्त आदेश) के तहत किसानों को एक नोटिस दिया गया है.


– 
हमारा प्रदर्शन शांतिपूर्ण, गाजीपुर बॉर्डर से हटने से राकेश टिकैत ने किया इनकार..

–  इस बीच भारतीय किसान यूनियन (एकता) और भारतीय किसान यूनियन (लोकशक्ति) ने अपना आंदोलन खत्म किया.

गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों का धरना खत्म कराने के लिए धारा-144 लगाई गई.

उधर, इस बीच भारतीय किसान यूनियन के राकेश टिकैत ने मीडिया से बातचीत में कहा कि मेरे किसानों को मारने की कोशिश की जा रही है. मैं यहां से खाली नहीं करूंगा. ये वैचारिक लड़ाई है. किसानों के साथ अत्‍याचार किया जा रहा है. उन्‍होंने कहा कि अगर कानून वापस नहीं हुआ तो मैं आत्‍महत्‍या कर लूंगा. उधर, गाजीपुर बॉर्डर पर भारी मात्रा में पुलिस बल को तैनात किया गया है.

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट दिल्ली में हुई हिंसा की जांच कराए. लाल किले पर कौन लोग थे इसकी भी जांच की जाए. साथ ही उनके कॉल रिकॉर्ड की भी जांच हो. इस बीच गाजीपुर बॉर्डर पर प्रशासन की ओर से सभी सुविधाएं हटा दी गई हैं. प्रशासन की इस कार्रवाई पर राकेश टिकैत ने कहा, ‘देश ने मुझे झंडा दिया है तो पानी भी देगा. मैं गाजियाबाद का पानी नहीं पीऊंगा. गांव के लोग पानी लेकर आएंगे तब मैं पीऊंगा.’