Kisan Andolan: नए कृषि कानूनों (New Farms Law 2020) को लेकर बीते 2 महीनों से किसानों का प्रदर्शन जारी है. आंदोलन खत्म करने को लेकर सरकार और किसानों के बीच 10 दौर की बातचीत हो चुकी है, हालांकि रिजल्ट अब तक नहीं निकला. किसानों ने कहा है कि सरकार जब तक नए कृषि कानूनों (Farm Law) को खत्म नहीं करती तब तक आंदोलन जारी रहेगा. उधर, सरकार ने लगातार कानूनों में संशोधन की बात की है. उधर, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) से जब पूछा गया कि किसानों का आंदोलन कब खत्म होगा? उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि आने वाले कल में इसका समाधान निकल जाएगा.Also Read - देशभर में 11 से 17 अप्रैल तक MSP गारंटी सप्ताह मनाएंगे किसान, संयुक्त किसान मोर्चा करेगा प्रदर्शन

Also Read - Lakhimpur Kheri violence: आशीष मिश्रा की जमानत रद्द करने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा

कृषि मंत्री ने न्यूज एजेंसी ANI से बाचतीत में कहा, ‘किसानों के साथ 11वें दौर की वार्ता के बाद जब समाधान नहीं निकला तब मैंने किसान से कहा कि डेढ़ साल के लिए कानूनों के क्रियान्वयन को स्थगित कर देते हैं. सुप्रीम कोर्ट ने स्थगित किया है तो हम उनसे अनुरोध करेंगे कि थोड़ा और समय दें, ताकि उस समय में हम लोग बातचीत के जरिए हल निकाल सकें. Also Read - Lakhimpur Kheri Case: SC आशीष मिश्रा की जमानत रद्द करने की मांग वाली याचिका पर बुधवार को करेगा सुनवाई

उन्होंने कहा कि सरकार किसान और कृषि दोनों के हितों के प्रति प्रतिबद्ध है. प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में विगत 6 वर्षों में किसान की आमदनी बढ़ाने, खेती को नई तकनीक से जुड़ने के लिए अनेक प्रकार की योजनाएं और प्रयास किए गए हैं. MSP को डेढ़ गुना करने का काम भी PM के नेतृत्व में हुआ.

उन्होंने कहा कि किसान को उसके उत्पादन का सही दाम मिल सके, किसान महंगी फसलों की ओर आकर्षित हो सके इसलिए जहां कानून बनाने की आवश्यकता थी वहां कानून बनाए गए और जहां कानून में बदलाव की आवश्यकता थी वहां कानून में बदलाव भी किए गए. इसके पीछे सरकार और प्रधानमंत्री की साफ नीयत हैं.

(इनपुट: ANI)