कोलकाता: पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना जिले के भाटपारा में जारी राजनीतिक हिंसा के बीच शनिवार को उसी जिले के अमदंगा में एक और भाजपा कार्यकर्ता की मौत हो गई. कार्यकर्ता की कथित तौर पर तृणमूल कांग्रेस द्वारा समर्थित उपद्रवियों ने बेरहमी से पिटाई की थी, जिसके बाद उसने अस्पताल में दम तोड़ दिया. बीजेपी के सूत्रों के अनुसार, माकपा के एक पूर्व कार्यकर्ता करीम ने 2019 के चुनावों के दौरान भाजपा का रुख किया. उस पर शुक्रवार को तृणमूल कार्यकर्ताओं ने हमला किया था. Also Read - Bihar Assembly Election 2020: भाजपा के मेनिफेस्टो पर मचा बवाल, तो BJP ने किया पलटवार

भाजपा के बैरकपुर सांसद अर्जुन सिंह ने पीड़ित के परिजनों से मुलाकात की और फिर कहा, “करीम सहित कई माकपा समर्थक भाजपा में शामिल हुए. उन्होंने चुनाव के दौरान पार्टी के लिए काम किया. वह एक बूथ एजेंट भी थे. इसी कारण उन्हें मार दिया गया. तृणमूल कार्यकर्ता प्रशासन की मदद से हमारे समर्थकों की हत्या कर रहे हैं.” पुलिस ने कहा कि करीम और पुरुषों के एक समूह के बीच बहस हुई, जिसके बाद समूह ने उनकी पिटाई की. पुलिस ने हालांकि, यह नहीं बताया है कि क्या पीड़ित या अभियुक्त किसी राजनीति पार्टी से भी जुड़े हुए थे. Also Read - बिहार में मुफ्त वैक्सीन बांटने के वादे पर राहुल गांधी का बीजेपी पर हमला, RJD बोली- इसमें भी चुनावी सौदेबाजी, छी-छी

पुलिस ने कहा, “नजीमुल करीम (23) को एक स्थानीय बाजार में एक झगड़े के दौरान बेरहमी से पीटा गया. उसे एक स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया. फिर उसे कोलकाता के एक अस्पताल में भेजा गया, जहां आज सुबह उसकी मौत हो गई. शिकायत दर्ज कर ली गई है और जांच की जा रही है.” घटना के बाद सुरक्षाकर्मियों के अमदंगा पहुंचने पर भाजपा कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच झड़प भी हुई. Also Read - Bihar Assembly Election: बिहार में कोरोना वैक्सीन मुफ्त बांटने के वादे से बवाल, बीजेपी के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत