कोलकाता: कोलकाता के विभिन्न भागों में रातभर हुई तेज बारिश के कारण सड़कों पर जलभराव से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि बंगाल की खाड़ी में चक्रवात कोमेन के कारण तेज बारिश हुई। मौसम विभाग ने शनिवार सुबह 8.30 बजे तक बारिश का रिकार्ड 117.4 एमएम तक दर्ज किया। यह भी पढ़े:मुंबई के लोग किसिंग वाले पोस्टर से परेशान Also Read - कपड़ा उद्योग में मजदूरों की कमी से स्पिनिंग मिलों की रफ्तार पड़ी धीमी, कामकाज हो रहा प्रभावित

Also Read - West Bengal Assembly Election 2021: नंदीग्राम में होगा संग्राम, 10 को 'दीदी', 12 मार्च को नामांकन पत्र भरेंगे शुवेंदु

मौसम विभाग के अधिकारियों का कहना है, “दिन के समय भी बरसात होने की संभावना है।” शहर में लोगों को घुटनों तक पानी से होकर गुजरना पड़ रहा है। सार्वजनिक वाहन भी चलने की स्थिति में नहीं हैं। Also Read - Kolkata Fire: रेलवे की बिल्‍ड‍िंग में आग से 9 लोगों की मौत, PM नेे दुख जताया, ममता ने रेलवे पर सवाल उठाए

कंकुरगाछी और पूर्व कोलकाता के उल्टादंगा स्थित झुग्गी-बस्ती में रहने वाले लोग अपनी झोपड़ियों के आसपास तारपोलिन शीट और प्लास्टिक वोवन का इस्तेमाल कर रहे हैं। कंकुरगाछी के पास दत्ताबाद की झुग्गियों में रहने वाले एक व्यक्ति ने कहा, “हम प्लास्टिक से घर की छतों को बचा रहे हैं लेकिन बारिश का पानी घरों में आ रहा है।” वहीं जलभराव के कारण ग्राउंड फ्लोर पर रहने वाले लोगों को ऊपर की मंजिल पर शिफ्ट होने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।

सूचना प्रौद्योगिकी केंद्र साल्ट लेक में रहने वाले एक वारिष्ठ नागरिक सी. तालुकदार ने आईएएनएस को बताया, “जब मैं सुबह उठा (शनिवार), तो पानी मेरे बेड के नीचे तक पहुंच गया था। उसके बाद मैंने ऊपर की मंजिल पर शिफ्ट होने का फैसला किया।” वहीं पश्चिम बंगाल में बाढ़ से मरने वालों की संख्या 39 तक पहुंच गई है। इसके अलावा छह जिलों के साथ कई क्षेत्रों में जलभराव मुसीबत बन गया है। इसके साथ मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बताया कि बर्दवान, वीरभूम, हुगली हावड़ा, उत्तरी 24 परगना और दक्षिणी 24 परगना के जिले जलमग्न हो गए हैं।