कोलकाता: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र पर देश की अर्थव्यवस्था को ‘बर्बाद’ करने का आरोप लगाया और कहा कि आर्थिक स्थिरता के बगैर राजनीतिक स्थिरता हासिल नहीं की जा सकती. उन्होंने शुक्रवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर भी निशाना साधते हुए कहा कि वह राज्य में ‘एक राजनीतिक दल की तरह’ व्यवहार कर रहा है. Also Read - 'बंगाल को गुजरात नहीं बनने देंगे', ममता बनर्जी बोलीं- जो लोग TMC छोड़ना चाहते हैं, जितना जल्दी हो सके छोड़ दें

Also Read - BJP विधायक सुरेंद्र सिंह का विवादित बयान, कहा- 'ममता बनर्जी 'राक्षसी' संस्कृति की, उनके DNA में...'

5 राज्यों में 12 नवंबर से 7 दिसंबर के बीच चुनाव, नामांकन से लेकर परिणाम तक का ये है शेड्यूल Also Read - जिस सशक्त भारत की कल्पना नेताजी ने की थी आज देश उसी नक्शे कदम पर चल रहा है: पीएम मोदी

बनर्जी ने यहां कहा कि ‘पूरी भारतीय अर्थव्यवस्था खतरनाक स्थिति में है. देश को बचाने के लिये इसे बदलना होगा. अगर आर्थिक स्थिरता नहीं होगी तब राजनीतिक स्थिरता भी नहीं हो सकती. इस सरकार को जाना चाहिए.

अरुण जेटली ने कहा- यौन रूझान को स्वतंत्र अभिव्यक्ति बताने के तर्क से असहमत हूं

ईंधन के बढ़े दामों के लिये केंद्र पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि राज्यों से कर घटाने के लिए कहने से पहले केंद्र सरकार को पेट्रोल और डीजल पर लगाए गए 10 रूपए के उपकर को वापस लेना चाहिए. हाल ही में संघ द्वारा तृणमूल कांग्रेस के नेता पार्थ चटर्जी को भेजे गए कानूनी नोटिस पर टिप्पणी करते हुए तृणमूल सुप्रीमो ने कहा कि वह इन सबसे ‘परेशान’ नहीं हैं और सुझाव दिया कि संघ को खुद को राजनीतिक संगठन घोषित कर देना चाहिए.