कोलकाता: कोलकाता मेट्रो की बेहद पुरानी हो चली बोगियों को बदलने की कवायद रफ़्तार पकड़ रही है. कोलकाता वासियों को जल्दी ही नई बोगियों की सौगात मिलने वाली है. चीन की निर्माता कंपनी डालियान से नई बोगियों का आयात शुरू होगा जिनमें से 4 बोगियां सुरक्षा मंजूरी का इंतजार कर रही हैं जबकि 10 बोगियां अगले वित्त वर्ष 2019-20 के अंत तक मिलने का अनुमान है.

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम स्कैंडलः श्मशान घाट की खुदाई से सीबीआई को मिला नरकंकाल, ब्रजेश ठाकुर की मुश्किलें बढ़ीं

कोलकाता मेट्रो के महाप्रबंधक पी सी शर्मा ने बताया कि इंटीग्रल कोच फैक्टरी (आईसीएफ), पेरम्बूर से मिली चार बोगियों का परीक्षण पूरा हो गया है और उनके फिटनेस प्रमाण पत्र का इंतजार है. मेट्रो के महाप्रबंधक शर्मा ने बुधवार को जानकारी देते हुए बताया कि उनका विभाग मंजूरी के लिए आरडीएसओ के संपर्क में हैं और इसे जल्द से जल्द प्राप्त करने का प्रयास चल रहा हैं. वहीँ केन्द्रीय कैबिनेट ने देश भर के रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास व उन्हें विश्वस्तरीय सुविधाओं से युक्त बनाने के लिए मंजूरी दे दी है.

उन्होंने बताया कि डालियान को जिन 14 बोगियां का ऑर्डर दिया है उनमें से पहली दिसंबर में मिलेगी. तीन और बोगियां मौजूदा वित्त वर्ष 2018-19 के अगले तीन महीनों में आएंगी. शर्मा ने बताया कि बाकी की 10 बोगियां अगले वित्त वर्ष 2019-20 के अंत तक मिल जाएंगी.

भारतीय मूल की अमेरिकी विशेषज्ञ पर ट्रम्प को भरोसा, परमाणु ऊर्जा संभाग में नियुक्ति का फैसला

40 एयर कंडीशंड बोगियों का ऑर्डर
कोलकाता मेट्रो में कुछ बोगियां तो बेहद पुरानी, वर्ष 1984 की है जब यह मेट्रो सेवा प्रारंभ हुई थी. 26 बोगियां जो संचालन में है उनमें से 13 पुरानी है और बिना एसी वाली हैं. मेट्रो सेवाओं के लिए कोलकाता मेट्रो ने विभिन्न निर्माता कंपनियों से 40 एयर कंडीशंड बोगियों का ऑर्डर दिया है. मौजूदा समय में कोलकाता मेट्रो शहर के दक्षिणी सिरे के इलाके कवि सुभाष और उत्तरी क्षेत्र के बाहरी इलाके नोपारा के बीच 27.22 किलोमीटर लंबे ट्रैक पर दौड़ती है. (इनपुट एजेंसी)