कोलकाता: पश्चिम बंगाल में राजनीतिक पारा हर बीतते दिन के साथ बढ़ता ही जा रहा है. बीजेपी और तृणमूल के बीच मतभेद खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. चुनाव बाद हुई हिंसा और अपने कार्यकर्ताओं व समर्थकों पर कथित हमलों के विरोध में भारतीय जनता पार्टी  द्वारा बुधवार को आयोजित विशाल रैली के दौरान पार्टी कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच झड़प हुई.Also Read - सुवेंदु अधिकारी बोले- बाबुल सुप्रियो को संसद से तुरंत इस्‍तीफा देना चाहिए, TMC भेज सकती है राज्‍यसभा

भाजपा कार्यकर्ता जब शहर के बउबाजार चौक जाने की कोशिश कर रहे थे तब पुलिस ने उन्हें वहां से हटाने के लिये लाठीचार्ज किया, आंसू गैस के गोले दागे और पानी की बौछार छोड़ी. इस दौरान हजारों पुलिसवालों को तैनात किया गया. जब भीड़ पर काबू पाना मुश्किल हो गया तो बंगाल पुलिस ने बीजेपी कार्यकर्ताओं पर वाटर कैनन का प्रयोग कर हालात पर काबू पाने की कोशिश की. इसके जवाब में भाजपा कार्यकर्ताओं ने नारे लगाए और अधिकारियों पर पथराव किया और बोतलें फेंकीं. पुलिस कार्रवाई के विरोध में कुछ पार्टी कार्यकर्ता इलाके में धरने पर बैठे भी देखे गए. Also Read - राज्यसभा भेजे जाएंगे बाबुल सुप्रियो? अर्पिता घोष की जगह टिकट दे सकती है तृणमूल कांग्रेस

पूरे कोलकाता शहर में सुरक्षा व्यवस्था को बढ़ा दिया गया है. इस दौरान भाजपा कार्यकर्ता जय श्री राम के नारे भी लगा रहे हैं. प्रदर्शन करने वालों में बड़ी संख्या में महिला कार्यकर्ता भी शामिल हैं. बीजेपी के मार्च को देखते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. Also Read - अंतर्कलह से जूझ रही कांग्रेस से भाजपा का मुकाबला करने की उम्मीद करना बेमानी: उमर अब्दुल्ला