कोझिकोड़ः रिश्तेदार के संदेह प्रकट करने पर एक परिवार के छह सदस्यों के नरकंकाल को खोदकर निकाला गया है. पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. एक स्थानीय अदालत ने अपराध शाखा को खोदकर इन शवों को निकालने की अनुमति दी थी. जिले के एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि वर्ष 2002 से लेकर 2016 के बीच एक जैसी परिस्थिति में इन सभी की भोजन करने के बाद मौत हो गई थी.

देश में मानसूनी बारिश और बाढ़ से करीब 1,900 लोगों ने गवाई जान, इस राज्य में हुईं सबसे ज्यादा मौतें

अन्नमा थॉमस की 2002 में और उनके पति टॉम थॉमस की छह साल बाद 2008 में मौत हुई थी. बाद में उनके बेटे रॉय थॉमस की 2011 में मृत्यु हुई थी. अनम्मा के भाई मैथ्यू 2014 में और दो अन्य रिश्तेदार एक महिला और उसके सालभर के बच्चे की 2016 में मौत हुई थी. अधिकारी ने कहा, ‘‘ हमें शिकायत मिली कि जमीन हथियाने के लिए इन मौतों की साजिश रची गई. हम सभी कोणों से उसकी जांच कर रहे हैं.’’ इन सभी ने मौत से पहले बेचैनी की शिकायत की थी.

Bihar Flood: जब फूट-फूट कर रोया रिक्शा चालक, बॉलीवुड एक्टर्स भी शेयर कर रहे ये ह्रदयविदारक वीडियो

रॉय के शव के पोस्टमार्टम से साइनाइड के अंश मिले थे और इस मृत्यु को आत्महत्या समझा गया था. गड़बड़झाले का संदेह प्रकट करने के बाद मामला दर्ज किया गया. यह बात सामने आयी कि टॉम की जमीन चली गयी क्योंकि एक अन्य रिश्तेदार पर वसीयतनामा अपने पक्ष में कराने के लिए उसमें फर्जीवाड़े का संदेह सामने आया. अनम्मा के एक अन्य बेटे रोजो ने जमीन हथियाने की शिकायत दर्ज करायी. रोजो अमेरिका में है.