बेंगलुरू. कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी अपनी पार्टी के एक मजबूत गढ़ मांड्या जिले में जद(एस) के एक कार्यकर्ता की हत्या करने वालों की ‘बेरहमी से मारने ’को लेकर एक पुलिस अधिकारी को निर्देश देने के कारण मंगलवार को विवादों में घिर गए. अधिकारी के साथ सोमवार को हुई बातचीत का एक वीडियो वायरल होने के बाद भाजपा की आलोचना पर राज्य में जद (एस)-कांग्रेस गठबंधन सरकार के प्रमुख कुमारस्वामी ने स्पष्टीकरण देते हुए कहा, ‘‘यह एक भावुक टिप्पणी थी’’ और उनका यह मतलब नहीं है. उन्होंने कहा कि वह गुस्से के कारण वह ऐसी बात कह गए क्योंकि वह जिला पंचायत के एक पूर्व सदस्य 50 वर्षीय पीड़ित एच प्रकाश को जानते थे.

कर्नाटक के सीएम ने मंगलवार को विजयपुरा में संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह मेरी कल्पना से परे है कि ऐसे किसी व्यक्ति की भी हत्या की जा सकती है. मेरे शब्द केवल एक भावनात्मक प्रतिक्रिया थी, इसका कोई मतलब नहीं है.’’ मुख्यमंत्री कार्यालय ने एक बयान जारी कर कहा कि टिप्पणी घटना की एक ‘भावुक प्रतिक्रिया’ थी और यह कुमारस्वामी का आदेश नहीं था. इस मुद्दे पर विपक्षी भाजपा ने कुमारस्वामी की आलोचना की है और इसे ‘गैर जिम्मेदार और बकवास’ करार दिया है. कथित हत्यारों की ओर इशारा करते हुए वह कह रहे हैं, ‘‘मैं नहीं जानता आप इससे (मामले) कैसे निपटेंगे…, क्योंकि यह आपकी जिम्मेदारी है. मैं वास्तव में निराश हूं क्योंकि इससे (हत्या) बदनामी हुई है. वह (जिसकी हत्या हुई है) एक अच्छा आदमी था…, अगर आप ऐसे लोगों (हत्यारों) को बेरहमी से गोली मार देते हैं तो भी कोई समस्या नहीं है.’’ वीडियो में मुख्यमंत्री कह रहे हैं, ‘‘मुझे अंजाम की परवाह नहीं है.’’

कर्नाटक सीएम का ‘क्लिप’ वायरल, हत्यारे को बेरहमी से मारने की कह रहे थे बात!

इस बीच, भाजपा प्रदेश प्रमुख बी एस येदियुरप्पा ने घटना को लेकर मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा, ‘‘ मुझे मुख्यमंत्री से कभी ऐसी उम्मीद नहीं थी. यदि वह इस तरह से बोलते हैं तो कानून व्यवस्था की स्थिति का क्या होगा?’’ उन्होंने मंगलवार को यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘कुमारस्वामी ने एक गैर जिम्मेदार और बकवास बयान दिया है.’’ भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री शोभ करांदजले ने कहा कि यह ‘अराजकता और अव्यवस्था’ का एक स्पष्ट मामला है. पुलिस ने बताया कि सोमवार शाम में मांड्या जिले के मद्दुर शहर में चार लोगों ने जद (एस) कार्यकर्ता एच प्रकाश (50) की कथित तौर पर हत्या कर दी. जब प्रकाश घर जा रहे थे तब हमलावरों ने उनकी कार रोकी और हमलावरों ने एक धारदार हथियार से उनकी हत्या कर दी. प्रकाश जिला पंचायत के एक पूर्व सदस्य थे. हत्यारों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग को लेकर लोगों के थाना घेराव के कारण घटना के बाद मद्दुर और मांड्या में तनाव व्याप्त हो गया.

पार्टी कार्यकर्ता की हत्या के बाद कुमारस्वामी ने कथित तौर पर पुलिस अधिकारी को फोन पर निर्देश दिया जो कैमरे में कैद हो गया और वायरल हो गया. बाद में मुख्यमंत्री जद एस कार्यकर्ता के अंतिम संस्कार में भाग लेने के लिए मांडया भी गए और मौत पर शोक जताने के साथ ही लापरवाही के लिए पुलिस को दोषी ठहराया.