बेंगलुरू: कर्नाटक के गुस्साए मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने बृहस्पतिवार को भाजपा को उनके पिता पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवेगौड़ा और उनके परिवार के बारे में अपने भाषण में संयम बरतने की चेतावनी दी. कुमारस्वामी ने कहा कि यदि वह उनकी सरकार को परेशान करती रही तो वह लोगों से उसके खिलाफ विद्रोह का आह्वान तक कर सकते हैं.

सरकार के पूरी तरह अपनी कमान में होने का दावा करते हुए कुमारस्वामी ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा को निशाना बनाया. कांग्रेस-जदएस गठबंधन सरकार की अगुवाई कर रहे कुमारस्वामी ने उनके मंत्रिमंडल को गिराने और दोनों दलों के विधायकों को लालच देने का आरोप लगाया.

नाराज कुमारस्वामी ने कहा, ‘‘यदि आप (हमारे मामले में) ज्यादा नुक्ताचीनी करेंगे तो हमारे पास कई चीजें हैं. सरकार हमारे हाथ में है. क्या मेरे पास इस बात का प्रभुत्व नहीं हैं जो कुछ हम कर सकते, करें? मैं आपको सावधान हो जाने की चेतावनी देता हूं.’’

सियासी समीकरण से चमकी कुमारस्वामी की किस्मत, किंगमेकर से बन गए किंग!

उन्होंने येदियुरप्पा से कहा, ‘‘ध्यान दीजिए. आप शीशे के घर में बैठे हैं. बोलते समय संयम रखिए. आपकी उम्र के लोगों से गंभीरता की उम्मीद की जाती है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं आपको स्पष्ट शब्दों में बताना चाहता हूं कि उन्हें ऐसे बयान देकर मुश्किल में फंसने से बचना चाहिए.’’ येदियुरप्पा ने हुबली में कथित रूप से कहा था कि उनका एकमात्र उद्देश्य पिता-पुत्र (देवेगौड़ा और उनके बेटों) को (राजनीतिक रूप से) खत्म करना है.

कुमारस्वामी का बड़ा आरोप, बीजेपी मेरी सरकार गिराने की कोशिश में, कुछ सरगना काम पर लगे

करीब एक सप्ताह पहले ही कुमारस्वामी ने दावा किया था कि बीजेपी उनकी सरकार को गिराने की कोशिश कर रही है. मुख्यमंत्री ने इसके साथ ही बीजेपी के कुछ सरगनाओं के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की भी चेतावनी दी, जिसके बारे में उन्होंने दावा किया कि वे लोग सरकार गिराने के लिए कांग्रेस और जेडी (एस) के विधायकों को रिश्वत देने का प्रयास कर रहे हैं.