नई दिल्ली: कामेडियन कुणाल कामरा पर कई विमानन कंपनियों द्वारा हवाई यात्रा पर प्रतिबंध के मुद्दे पर स्थिति स्पष्ट करते हुए नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने मंगलवार को कहा कि विमान एवं यात्री सुरक्षा के मुद्दे पर कोई समझौता नहीं किया जाएगा और सुरक्षा मानकों का उल्लंघन करने वाले के साथ कोई रियायत नहीं की जा सकती है. Also Read - कांग्रेस संसद में जोरशोर से उठाएगी दिल्ली के दंगों का मुद्दा, पार्टी करेगी गृह मंत्री के इस्तीफे की मांग

लोकसभा में वायुयान संशोधन विधेयक 2020 पर चर्चा में हिस्सा लेते हुए राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी : राकांपा : की सुप्रिया सुले ने कामेडियन कामरा का मामला उठाया और कहा कि एक के बाद एक छह एयरलाइंस उन पर यात्रा प्रतिबंध लगा चुकी हैं . हालांकि सुले ने कहा कि कामरा ने साथी सह यात्री के साथ जो किया वह गलत था लेकिन यात्रा प्रतिबंध पर सरकार को स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए. उन्होंने उम्मीद जतायी कि इस मामले में कोई राजनीतिक दबाव नहीं रहा होगा. चर्चा का जवाब देते हुए पुरी ने कहा कि विमान एवं यात्रियों की सुरक्षा उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता है और इससे किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जाएगा . Also Read - Kunal Kamra and Air India controversy कुणाल कामरा नाम देख एयर इंडिया ने शख्स का टिकट कर दिया रद्द, गलती का एहसास होने पर...

उन्होंने कहा कि नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) के दिशानिर्देश हैं जिनका पालन प्रत्येक एयरलाइन को करना पड़ता है . विमान के पायलट की ओर से कोई शिकायत मिलने पर एयरलाइन समिति बनाती है और फिर उन पर विचार करने के बाद निर्णय किया जाता है. नागर विमानन मंत्री ने कहा कि जिस हास्य कलाकार का विषय सुप्रिया सुले ने उठाया है, उसके बारे में कहना चाहते हैं कि वह 13वीं कतार में बैठे थे और पहली कतार में बैठे व्यक्ति को परेशान कर रहे थे . Also Read - जम्मू-कश्मीर के सांसदों के संसद में प्रवेश पर रोक की मांग करने वाली याचिका खारिज

पुरी ने कामरा के मामले में कहा कि उन्होंने न केवल एक यात्री को परेशान किया बल्कि घटना का वीडियो भी बनाकर सोशल मीडिया पर डाल दिया जिसके बाद सबका ध्यान इसकी ओर गया. अगर वीडियो नहीं डाला जाता तो हो सकता है कि यह घटना किसी के ध्यान में ही नहीं आती .

उन्होंने कहा, ‘‘ यात्रियों एवं विमान की सुरक्षा सर्वोच्च प्राथमिकता है . एक मंत्री के तौर पर मैं कहना चाहूंगा कि विमानन सुरक्षा के मुद्दे पर कोई समझौता नहीं किया जाएगा . ऐसे मामलों में कोई रियायत नहीं बरती जायेगी, चाहे वह सांसद ही क्यों न हो . ’’ पुरी ने कहा कि हम ऐसी स्थिति नहीं चाहते जहां विमान के भीतर तमाशे की स्थिति बने.

उल्लेखनीय है कि मुंबई लखनऊ की उड़ान में कामरा द्वारा कथित रूप से एक टीवी चैनल के संपादक अर्णव गोस्वामी को परेशान करने की घटना सामने आने के बाद इंडिगो ने कामरा पर छह महीने के लिए हवाई यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया था. इसके बाद कई और एयरलाइन ने भी कामरा के खिलाफ यही कदम उठाया था.

मंत्री के जवाब के बाद सदन ने विधेयक को अपनी मंजूरी दे दी.