कुशीनगर: उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में मानव रहित क्रासिंग पर स्कूल वैन के पैसेंजर ट्रेन की चपेट में आने से 13 बच्चों की मौत हो गई वहीं 7 बच्चे बुरी तरह घायल हैं. घटना की खबर पाकर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी पीड़ित परिवारों से मिलने पहुंचे लेकिन सीएम योगी के घटनास्थल पर पहुंचते ही नारेबाजी शुरु हो गई. गुस्साए लोग सीएम योगी के खिलाफ नारेबाजी करने लगे जिससे सीएम योगी गुस्से में आ गए और नारे लगा रहे लोगों को कहा कि ये नौटंकी बंद कर दो.

नारेबाजी से गुस्से हुए सीएम योगी गाड़ी के बोनट पर चढ़ गए और कहा, ”ये एक दुखद घटना है, दुखद घटना में नारेबाजी बंद कर दें, अभी भी मैं बोल रहा हूं इस बात को नोट कर लो, ये नौटंकी बंद करो, दुखद घटना के समय समस्या के समाधान की बात करें तो अच्छा होगा, मैं घटनास्थल का निरीक्षण करने आया हूं, यहां से हट जाएं.” हालात ऐसे हो गए कि सीएम योगी कि वापस लौटना पड़ा.

हादसे के बाद घायल बच्चों को किसी तरह वैन से बाहर निकाला गया और उन्हें अस्पताल पहुंचाया गया. बच्चों के बैग और कपड़े खून से सने थे. जिसने भी इस मंजर को देखा उसकी रूह कांप गई. हादसे में ड्राइवर की भी मौत हो गई. सीएम योगी ने घटना पर दुख जताते हुए कहा कि ”कुशीनगर जिले में हुए दुर्भाग्यपूर्ण ट्रेन दुर्घटना में स्कूली बच्चों की मृत्यु पर गहरा दुःख पंहुचा. ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति एवं परिजनों को संबल देने की प्रार्थना करता हूं. दुर्घटना से प्रभावित लोगों के समुचित इलाज की व्यवस्था कराने व हर सम्भव मदद करने के निर्देश दिए हैं.”

उत्तर पूर्व रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी संजय यादव ने बताया कि हादसा कुशीनगर जिले के कप्तानगंज थावे के पास दुदुई रेलवे स्टेशन के पास एक मानव रहित रेलवे क्रासिंग पर सुबह सात बज कर दस मिनट पर हुआ. बच्चों को स्कूल लेकर जा रही एक वैन सिवान गोरखपुर पैसेंजर ट्रेन (55075) की चपेट में आ गई. दुर्घटना में कम से कम 13 बच्चों की मौत हुई है.

किस तरह हुआ हादसा?
संजय यादव ने बताया कि क्रासिंग पर एक मानव रहित क्रासिंग मित्र तैनात था. उसने वैन ड्राइवर को रोकने की कोशिश की लेकिन ड्राइवर ने उसे अनसुना कर दिया. चालक ने वैन के निकालने की कोशिश की लेकिन शायद वैन बीच पटरी पर अचानक पहुंच कर बंद हो गई और यह हादसा हो गया. इस बीच लखनऊ में प्रमुख सचिव सूचना अवनीश अवस्थी ने बताया कि दुर्घटना पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गहरा दुख व्यक्त किया है. उन्होंने हादसे में मारे गए बच्चों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की सहायता देने की घोषणा की है.

रेलवे देगा 2-2 लाख मुआवजा
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी घटना पर गहरा दुख जताया है. दूसरी तरफ रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी सभी मृतकों के परिजन को दो-दो लाख रुपया मुआवजा देने की घोषणा की है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘स्कूली बच्चों की मौत की दुखद खबर मिली है. मैंने वरिष्ठ अधिकारियों को घटना का जांच करने का आदेश दिया है. रेलवे उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा घोषित सहायता राशि से अलग सभी मृतकों के परिजन को दो-दो लाख रुपया मुआवजा देगी.