कोलकाता: लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सेना से हुए संघर्ष में शहीद होने वाले जवानों के घरों और गांवों में मातम छा गया है. पूरे देश में इसे लेकर आक्रोश है. देश के लोग इसे लेकर ठोस कार्रवाई की मांग कर रहे हैं. वहीं, शहीदों के परिजनों में भी गुस्सा और गम है. चीनी सेना से झड़प में देश के अलग-अलग हिस्सों के साथ ही बंगाल के दो सैनिक भी शहीद हुए हैं. इनमें से एक शहीद की मां ने चीन से बदला लेकर अपने बेटे के लिए न्याय की मांग की है. Also Read - India-China Border News Update: टकराव वाले इलाकों गोग्रा और हॉट स्प्रिंग्स से पीछे हटे चीनी सैनिक पर इंडियन एयरफोर्स अब भी....

पश्चिम बंगाल के बीरभूम और अलीपुरद्वार जिलों से संबंध रखने वाले दो सैनिकों के गांवों में उस समय मातम पसर गया, जब उनके लद्दाख में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक संघर्ष के दौरान शहीद होने की खबर आई. मोहम्मद बाजार निवासी सेना के जवान राजेश उरांव के परिवार को मंगलवार देर रात बताया गया कि संघर्ष के दौरान वह घायल हो गए हैं. बाद में सेना मुख्यालय से फोन आया कि उनकी मौत हो गई है. जिला अलीपुरद्वार निवासी एक अन्य सेना जवान बिपुल रॉय की मौत की खबर के बाद, जिला प्रशासन के अधिकारी उनके परिवार वालों से मिलने बिपुल के भाटीपारा निवास पहुंचे. राजेश की मौत पर परिवार और ग्रामीणों ने शोक व्यक्त किया. Also Read - कांग्रेस का सवाल- भारतीय सेना LAC पर हमारी ही सरजमी से क्यों हट रही है पीछे, क्या पीएम मोदी के शब्दों के मायने नहीं?

‘हम बदला चाहते हैं’
राजेश की मां ममता उरांव ने अपने बहादुर बेटे के लिए न्याय की मांग की. वीर जवान की मां ने कहा, “हम चाहते हैं कि भारतीय सेना उन्हें मुहतोड़ जवाब दे. मैं अपने बेटे के लिए न्याय चाहती हूं. हम बदला लेना चाहते हैं.” Also Read - हॉट स्प्रिंग्स और गोगरा में भारत-चीन की सेनाओं ने पीछे हटना शुरू किया: रिपोर्ट

पिछले हफ्ते हुई थी बात
शहीद सैनिक राजेश की बहन शकुंतला उरांव ने रोते हुए कहा, “उन्होंने मुझे पिछले हफ्ते फोन किया था, थोड़ी देर ही बात हुई थी हमारी. उन्होंने सबकी सेहत के बारे में पूछा था, और मुझे भी सुरक्षित रहने के लिए कहा था. उन्होंने कहा था कि एक-दो हफ्ते बात नहीं हो पाएगी, बार्डर पर पहुंचने के लिए पहाड़ पर चढ़ना है.” इस बीच, राजेश के घर जिले के अधिकारी पहुंचे. उनके घर तक जाने का रास्ता साफ कर दिया गया है. सूत्रों ने बताया कि सैनिक का पार्थिव शरीर बुधवार रात गांव में पहुंचने की संभावना है.