पटना: राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री लालू प्रसाद के 11वीं बार पार्टी का निर्विरोध अध्यक्ष चुने जाने की औपचारिक घोषणा की गई. पटना में मंगलवार को पार्टी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में पार्टी के राष्ट्रीय निर्वाचन पदाधिकारी चित्तरंजन गगन ने इसकी औपचारिक घोषणा की. इस घोषणा के बाद पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने करतल ध्वनि से इसका स्वागत किया. इसके बाद लालू की अनुपस्थिति में उनके निर्वाचन सम्बन्धी प्रमाण-पत्र उनके दोनों पुत्रों विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव एवं बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव को सौंप दिया गया.

एससी-एसटी के आरक्षण को लेकर पीएम मोदी ने कही ये बात, ट्वीट कर जाहिर की प्रतिक्रिया

लालू प्रसाद चारा घोटाला के कई मामलों में दोषी पाए जाने के बाद रांची की जेल में सजा काट रहे हैं.दुमका कोषागार मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने लालू को पिछले वर्ष 24 मार्च को भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम (पीसी एक्ट) के तहत सात-सात वर्ष बामशक्कत कैद की सजा सुनाई थी. इस मामले में उन पर साठ लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया था.

पश्चिम बंगाल: राज्यपाल से टकराव के बाद विधानसभा का शीतकालीन सत्र स्थागित, संसद में हुआ हंगामा

इसके अलावा चारा घोटाले के तीन अन्य मामलों में वह सजा काट रहे हैं. लालू यादव पर दुमका कोषागार से तीन करोड़ 13 लाख रुपए गबन के आरोप हैं. उल्लेखनीय है कि लालू का इस बार भी निर्विरोध अध्यक्ष चुना जाना तय माना जा रहा था. पार्टी बनने के बाद भी लालू के अलावे किसी ने भी इस पद के लिए नामांकन का पर्चा दाखिल नहीं किया है.