रांची: झारखंड उच्च न्यायालय में चारा घोटाले से जुड़े दुमका कोषागार से गबन के मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के मुखिया लालू प्रसाद यादव की जमानत याचिका पर शुक्रवार को एक बार फिर से सुनवाई नहीं हो सकी और अब उनकी जमानत याचिका पर छह दिसंबर को सुनवाई होगी. लालू यादव की जमानत याचिका पर सुनवाई शुक्रवार दोपहर बाद के लिए न्यायमूर्ति अपरेश कुमार सिंह की पीठ के सामने होनी थी लेकिन एक बार फिर उनकी जमानत याचिका पर सुनवाई नहीं हो सकी. अब इस मामले में शुक्रवार छह दिसंबर को सुनवाई होगी.

इससे पूर्व 22 नवंबर को एक अधिवक्ता के निधन पर शोकसभा के चलते इस मामले में सुनवाई नहीं हो सकी थी और मामला आज के लिए स्थगित कर दिया गया था. सीबीआई ने इस मामले में पहले ही अपना जवाब अदालत के समक्ष दाखिल कर दिया है जिसमें उसने लालू को भ्रष्टाचार के इस मामले में जमानत दिये जाने का सख्त विरोध किया है.

जमानत के लिए बीमार लालू यादव ने कोर्ट से लगाई गुहार, 25 अक्टूबर को होगी सुनवाई

दुमका कोषागार मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने लालू को पिछले वर्ष 24 मार्च को भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम (पीसी एक्ट) के तहत सात-सात वर्ष बामशक्कत कैद की सजा सुनाई थी. इस मामले में उन पर साठ लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया था. इसके अलावा चारा घोटाले के तीन अन्य मामलों में वह सजा काट रहे हैं. लालू यादव पर दुमका कोषागार से तीन करोड़ 13 लाख रुपए गबन के आरोप हैं.