बाराबंकी (उत्तर प्रदेश): वकीलों के समूह द्वारा न्यायाधीश के कार्यालय में घुसकर अभद्रता करने का मामला सामने आया है. दिल्ली तीस हजारी कोर्ट में हुए विवाद के कारण जिले के अधिवक्ताओं की शुक्रवार को हड़ताल चल रही थी. तहसील के सामने स्थित मोटर दुर्घटना कार्यालय में वकीलों के समूह ने एक जज के कार्यालय में घुस कर उनके और उनके कर्मचारियों के साथ बदसलूकी की. जज ने वकीलों की बदसलूकी के लिए पुलिस अधीक्षक को पत्र लिख कर कार्रवाई करने का अनुरोध किया है.

सन्दीप जैन मोटर दुर्घटना दावा अभिकरण के पीठासीन अधिकारी हैं. सन्दीप जैन का कहना है कि वह अपने कार्यालय में बैठ कर कुछ जरूरी आदेश आशुलिपिक से लिखवा रहे थे. तभी 40- 50 वकील उनके कार्यालय में घुस आए और उनसे कालर पकड़ कर अभद्रता करने लगे. वकीलों का कहना था कि हड़ताल के दिन काम क्यों करवा रहे हो. उनके अलावा वकीलों ने उनके आशुलिपिक, गनर और स्टाफ के अन्य लोगों के साथ भी गाली-गलौज और अभद्रता की. मोबाइल से फोटो खींचने पर मोबाइल फोन छीन लिया और जम कर उत्पात मचाया. इस घटना का विवरण देते हुए सन्दीप जैन ने पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखकर दोषी वकीलों के खिलाफ मामला दर्ज करने का अनुरोध किया है.

जैन के कार्यालय में क्लर्क के पद पर तैनात रिंकू ने बताया कि आज 50-60 वकील एक साथ साहब के कमरे में आ धमके और गाली-गलौज करने लगे. उनका कहना था कि आज बहिष्कार है आज काम क्यों कर रहे हो. वकीलों ने इस दौरान जज साहब के साथ – साथ पूरे स्टाफ के साथ गाली-गलौज किया. स्टेनो रूम में यह सब काफी देर तक चलता रहा.

अपर पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार शर्मा ने बताया कि जिलाधिकारी को वकीलों ने ज्ञापन दिया था कि आज उनकी हड़ताल है. आज कुछ वकील जज संदीप जैन के यहाँ पहुँचे और उनसे व उनके स्टाफ से अभद्रता की. इस सम्बन्ध जैन की तहरीर पर अज्ञात वकीलों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

उन्होंने कहा कि आगे जाँच में जो तथ्य सामने आएंगे उसके अनुसार कार्यवाही की जाएगी. अभी अभद्रता की बात सामने आई है और सरकारी कार्य में बाधा डालने का अभियोग पंजीकृत किया गया है. सीसीटीवी कैमरे की भी जाँच में यदि कोई फुटेज मिलता है तो उसे भी संज्ञान में लिया जाएगा.

(इनपुट भाषा)