नई दिल्ली। चेन्नई में महिला कोर्ट में आज अफरातफरी की स्थिति पैदा हो गई.  यहां वकीलों ने ही गैंगरेप के आरोपियों की जमकर पिटाई की. 17 लोगों ने 11 साल की लड़की के साथ करीब 7 महीने तक लगातार दुष्कर्म को अंजाम दिया था. आज कोर्ट में पेशी के दौरान वकीलों ने इन आरोपियों पर हमला बोल दिया और लात-घूंसों से जमकर इनकी पिटाई की. इस दौरान पुलिस बीचबचाव करती रही लेकिन वकील नहीं माने और आरोपियों को लगातार मारते पीटते रहे. सातवीं कक्षा की 12 वर्षीय छात्रा के साथ लंबे समय से उसके अपार्टमेंट परिसर में करीब 17 लोग यौन उत्पीड़न कर रहे थे. पुलिस ने सोमवार को ही इन लोगों को गिरफ्तार किया था. Also Read - मध्य प्रदेश के कबीर आश्रम में मानसिक रूप से कमजोर कई महिलाओं से रेप, एक ने जन्मा बच्चा

अपार्टमेंट परिसर में हो रहा था रेप

जिन लोगों को गिरफ्तार किया गया है उनमें अयनावरम इलाके के एक अपार्टमेंट में काम करने वाला लिफ्टमैन, सिक्योरिटी गार्ड, प्लम्बर, इलेक्ट्रिशियन और अन्य कर्मचारी शामिल हैं. लड़की अपने परिवार के साथ इसी अपार्टमेंट में रहती है और अपार्टमेंट में ही उससे कई बार कथित तौर पर बलात्कार किया गया. घटना को लेकर जन आक्रोश के बीच आरोपियों को गिरफ्तार कर महिला अदालत में पेश किया गया जहां गुस्साएं वकीलों ने उन पर लात घूंसे बरसाए और उन्हें सीढ़ियों से घसीटा.

31 जुलाई तक रिमांड पर भेजा

अदालत ने सभी आरोपियों को 31 जुलाई तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है. पुलिस के अनुसार, आरोपी लड़की से बलात्कार करने से पहले उसे नशे के इंजेक्शन, नशीले पदार्थ वाली सॉफ्ट ड्रिंक देते थे और नशीला पाउडर सूंघाते थे और उन्होंने इस घटना की वीडियो भी बनाई थी.

इस बीच, मद्रास उच्च न्यायालय वकील संघ (एमएचएए) ने कहा कि मामले में कोई वकील आरोपियों की पैरवी नहीं करेगा और उसने आरोपियों के लिए कड़ी सजा की मांग की.

एमएचएए अध्यक्ष जी मोहनकृष्णन ने पत्रकारों से कहा कि वकीलों ने आरोपियों के खिलाफ नारेबाजी करके इस घटना के खिलाफ अपना विरोध दर्ज कराया. हमने फैसला किया है कि कोई भी वकील उनकी ओर से पेश नहीं होगा.

घर में घुसकर गैंगरेप की कोशिश, विरोध करने पर महिला को जलाकर मार डाला

12 साल की पीड़िता ने बहन को बताया

यह अपराध तब सामने आया जब पीड़िता ने अपनी बड़ी बहन को इन घटनाओं के बारे में बताया, जिसने बाद में अपने माता – पिता से इसकी शिकायत की. इसके बाद कल पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई. बहन और पिता दूसरे शहर में रहकर बिजनेस करते हैं. पीड़िता की बहन पिछले हफ्ते ही घर आई थी और उसने पीड़िता के चेहरे पर डर देखकर इसकी वजह पूछी.

7 महीने तक चुप रही पीड़िता

बाद में छात्रा की मां ने शिकायत दर्ज कराई कि करीब 17 लोगों ने अलग-अलग दिनों में अपार्टमेंट के भीतर विभिन्न स्थानों पर छात्रा का यौन उत्पीड़न किया. सबसे पहले एलीवेटर ऑपरेटर ने छात्रा के साथ दुष्कर्म किया और फिर बाकी लोगों को भी लेकर गया. छात्रा डर के कारण करीब 7 महीने तक चुप रही.