त्रिशूर: माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को सत्ता से बेदखल करने के लिए उनकी पार्टी धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक शक्तियों के साथ गठबंधन करेगी. उन्होंने यह भी साफ़ किया कि उनकी पार्टी कांग्रेस के साथ हाथ नहीं मिलाएगी. येचुरी ने कहा, ‘‘पार्टी का मुख्य प्राथमिक उद्देश्य बेहतर भारत का निर्माण करने के लिए बीजेपी को हटाना है. यह लोकतांत्रिक एवं धर्मनिरपेक्ष शक्तियों को साथ लाकर हासिल किया जाएगा लेकिन कांग्रेस के साथ कोई चुनावी गठजोड़ नहीं किया जाएगा. ’’ Also Read - 'टाइगर अभी ज़िन्दा है' को उमा भारती का जवाब- मैं 'मोगली' हूं, शेरों की सवारी करती हूं

वह माकपा की केरल इकाई के चार दिवसीय सम्मेलन के समापन पर एक रैली को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि माकपा बीजेपी को हराने के लिए कांग्रेस के साथ हाथ नहीं मिला सकती क्योंकि कांग्रेस भी उसी आर्थिक नीतियों का प्रतिनिधित्व करती है. येचुरी ने कहा, ‘‘हम कह चुके हैं कि चुनाव के वक्त इसी समझ को ध्यान में रखकर देश में गैर सांप्रदायिक वोटों को अधिक से अधिक लामबंद करने के लिए उपयुक्त चुनावी तरकीब तैयार किया जाएगा.’’ Also Read - राहुल गांधी की रक्षा मामलों में केवल ''कमीशन'' को लेकर ही रुचि, संसदीय समिति में नहीं: बीजेपी

बता दें कि अगले साल देश में लोकसभा चुनाव होने है और उसी के लिए सभी सियासी दलों ने तैयारी शुरू कर दी है. 2014 आम चुनाव में ख़राब प्रदर्शन करने वाली माकापा 2019 में अच्छा प्रदर्शन करना चाहती है और इसी लिए वह रणनीति भी बना रही है. Also Read - लुटियंस जोन में स्थित प्रियंका गांधी वाला '35 लोधी एस्टेट' बंगला BJP नेता अनिल बलूनी को आवंटित

(भाषा इनपुट)