नई दिल्ली. आर्थिक संकट से जूझ रही कंपनी जेट एयरवेज के 15 से भी कम विमान अब परिचालन में हैं. नागर विमानन सचिव पी.एस.खरोला ने बुधवार को इसकी जानकारी दी. सचिव ने कंपनी के सक्रिय विमानों की संख्या पूछे जाने पर कहा कि कल (मंगलवार को) 28 विमान परिचालन में थे.

खरोला ने कहा, कंपनी ने मंगलवार शाम शेयर बाजार को बताया कि अन्य 15 विमान खड़े किये गये हैं. अत: अब कंपनी के बेड़े में 15 से भी कम विमान रह जाएंगे. हालांकि, विमानन नियामक डीजीसीए ने जारी बयान में कहा कि जेट एयरवेज आज की तारीख तक 28 विमानों का परिचालन कर रहा है. डीजीसीए ने कहा कि खबर में जिन 15 विमानों का जिक्र है उन्हें पहले ही गिना जा चुका है और शेयर बाजार को इसी की जानकारी जेट एयरवेज ने दी है.

119 विमान थे
कंपनी के बेड़े में करीब 119 विमान थे. हालांकि, विमान की लीज किस्तें नहीं चुकाने के कारण कंपनी को हालिया समय में अधिकांश विमान खड़े करने पड़े हैं. खरोला ने कंपनी के वित्तपोषण के बारे में कहा, ‘‘मामला बैंकों और जेट एयरवेज के प्रबंधन के बीच है. वे आपस में बातचीत कर रहे हैं.

क्षमता का परीक्षण करना चाहिए
सचिव एक कार्यक्रम से इतर बात कर रहे थे. उन्होंने यह भी कहा कि अंतरराष्ट्रीय परिचालन कर पाने की जेट एयरवेज की क्षमता का परीक्षण किया जाना चाहिये. इस खबर के बाद बुधवार को कंपनी के शेयर चार प्रतिशत तक गिर गए. बीएसई में कंपनी का शेयर गिरकर 257.80 रुपये पर खुला. कारोबार के दौरान यह 3.90 प्रतिशत गिरकर 254.55 रुपये पर चल रहा था. इसी तरह एनएसई में कंपनी का शेयर चार प्रतिशत गिरकर 254.40 रुपये के निचले स्तर पर चल रहा था.