तिरुवनंतपुरम: भयानक बाढ़ और भूस्खलन के बाद केरल में जिंदगी सामान्य पटरी पर वापस लौटने लगी है, लेकिन राज्य में अब भी राहत शिविरों में 10.40 लाख लोग रह रहे हैं. बाढ़ की वजह से बेघर हुए लोगों के पुनर्वास पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है. देश-विदेश से लोग राज्य की मदद करने के लिए सूबे को नकद राशि और जरूरी सामानो की मदद दे रहे हैं. इसके अलावा लोग सीधे मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष (सीएमडीआरएफ) में भी नकद राशि जमा कर रहे हैं. Also Read - Reservation in Government Jobs: यह राज्य सरकारी नौकरी में सामान्य वर्ग को देगा 10 प्रतिशत का आरक्षण, जानें पूरी डिटेल

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि गुरुवार रात तक कुल 539 करोड़ की राशि जमा हो चुकी है. राहत शिविरों में रह रहे लोग अपने घरों में वापस लौटने लगे हैं लेकिन राज्य के 2,770 शिविरों में अब भी 10.40 लाख लोग रह रहे हैं. बाढ़ का पानी कम होने के बाद अब तक पिछले कुछ दिनों में करीब पांच लाख लोग अपने घर जा चुके हैं. Also Read - Hyderabad Flood: बाढ़ प्रभावित परिवारों को मिलेगी वित्तीय सहायता, मंत्री ने की घोषणा

मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने गुरुवार को राज्य के विभिन्न राहत शिविरों का दौरा किया और बताया कि राज्य सरकार अब प्रभावित लोगों के पुनर्वास और प्रदेश के दोबारा निर्माण पर ध्यान केंद्रित की हुई है. राज्य में सफाई प्रक्रिया के बारे में उन्होंने कहा कि सफाई अभियान पहले से ही शुरू हैं और अब तक 37,000 से ज्यादा कुएं और 60,000 से ज्यादा घर साफ किए जा चुके हैं. उन्होंने कहा, ‘ बाढ़ प्रभावित लोगों की मदद करके हम ओनम त्योहार का उत्सव मनाएंगे.’ उन्होंने लोगों को मदद का आश्वासन देते हुए कहा कि ऐसी योजनाएं बनाई जा रही हैं कि लोगों को बाढ़ से क्षति पहुंचे घरों के पुनर्निर्माण के लिए ब्याज मुक्त ऋण दिया जाए. Also Read - Kerala Couple Photoshoot Viral: इस कपल के बोल्ड फोटोशूट ने जंगल से लेकर सोशल मीडिया तक मचाई सनसनी, आप भी देखें रोमैंटिक तस्वीरें