बेंगलुरू: फोर्ब्स ने साल 2019 की शीर्ष कंपनियों का लिस्ट जारी किया. इस लिस्ट के अनुसार दुनिया भर की टॉप रैंकिंग कंपनियों में 18 कंपनियां भारत की हैं. वहीं भारतीय आईटी कंपनी इंफोसिस 28वें पायदान से तीसरे पायदान पर पहुंच गई. अब इंफोसिस विश्व की तीसरी सबसे बड़ी प्रतिष्ठित कंपनी बन गई है. इससे आगे ग्लोबल पेमेंट टेक्नोलॉजी कंपनी वीजा और इटली की कार निर्माता कंपनी फरारी है.

फोर्ब्स में दुनिया की सबसे सम्मानित 250 कंपनियों की लिस्ट में अमेरिका की कुल 59 कंपनिया हैं. इसके बाद जापान, चीन और फिर भारत का नंबर आता है. कुल मिलाकर इन तीनों देशों की 82 कंपनियां इस सूची में शामिल हैं. फोर्ब्स ने स्टेटिस्ता(Statista) के साथ मिलकर 2000 सबसे बड़ी कंपनियों में से 250 सबसे प्रतिष्ठित कंपनियों का चुनाव किया है. विश्वसनीयता, सामाजिक आचरण प्रोडक्ट एवं सर्विसेज के आधार पर ये लिस्ट तैयार की गई है. स्टैटिस्ता ने 50 से अधिक कंपनियों के 15000 लोगों से बातचीत और रिसर्च के बाद यह सूची तैयार की है.

इंफोसिस के सीईओ सलील पारेख ने कहा कि मैं इसके लिए अपने 2.29 लाख कर्मचारियों को धन्यवाद देता हूं जो इस हमारे साथ काम करते हैं, जिन्होंने बिना थके, बिना रुके दिन रात काम करके इंफोसिस को यहां तक पहुंचाया और उसे फोर्ब्स में तीसरा पायदान दिलवाया. पारेख ने कहा कि साल 2018 में इंफोसिस इस सूची में 31वें पायदान पर था.

फोर्ब्स के एडिटर के अनुसार, इस साल की लिस्ट से यह पता चलता है कि अमेरिका में एशियन कंपनियों के लिए काफी अच्छा स्कोप है. इंफोसिस अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए तेजी से काम कर रहा है जिसके लिए कंपनी ने इस साल 10 हजार अमेरिकी लोगों को नौकरी पर रखा है.

(इनपुट- एएनआई)