प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब से थोड़ी देर बाद देश को संबोधित कर रहे हैं. अपने संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी जम्मू कश्मीर के विशेष दर्जा संबंधी अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को समाप्त करने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेश में विभाजित करने के फैसले के बारे में बात कर सकते हैं. संसद ने को जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा संबंधी अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त करने के प्रस्ताव संबंधी संकल्प और जम्मू कश्मीर को दो केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर तथा लद्दाख में विभाजित करने वाले विधेयक को मंजूरी दे दी है.Also Read - 'चीन के कारण दक्षिण एशिया की स्थिरता पर खतरा'; CDS रावत बोले- भारत विरोधी है ड्रैगन-पाकिस्तान की सांठगांठ

Also Read - Pakistan: इस्लामिक कट्टरपंथियों और पुलिस के बीच झड़प, अब तक 10 की मौत, 700 से अधिक लोग जख्‍मी Also Read - भारत-पाकिस्तान टी20 विश्व कप मैच में अहम भूमिका निभा सकते हैं रोहित शर्मा, मोहम्मद रिजवान: यूनिस खान

Live Updates

  • 8:46 PM IST

    हमारे जो साथी जम्मू कश्मीर से बाहर रहते हैं और ईद पर अपने घर वापस जाना चाहते हैं उनको भी सरकार हरसंभव मदद कर रही है.

  • 8:46 PM IST

    सरकार इस बात का ध्यान रख रही है कि जम्मू कश्मीर में ईद मनाने में लोगों को कोई परेशानी ना हो.

  • 8:46 PM IST

    ईद का मुबारक त्यौहार भी नजदीक ही है. ईद के लिए मेरी ओर से आप सभी को बहुत-बहुत शुभकामनाएं.

  • 8:46 PM IST

    अलगाववाद को बढ़ावा देने की पाकिस्तान की साजिश के विरोध में भारत के जम्मू कश्मीर के लोग ही डटकर खड़े हुए हैं.

  • 8:39 PM IST

    अब लद्दाख के लोगों की इनोवेटिव स्पिरिट को बढ़ावा मिलेगा. उन्हें अच्छी शिक्षा के लिए बेहतर संस्थान मिलेंगे. वहां के लोगों को अच्छे अस्पताल मिलेंगे.

  • 8:38 PM IST

    स्थानीय प्रतिनिधियों, लद्दाख और करगिल के डेवलपमेंट काउंसिल के सहयोग से केंद्र सरकार विकास की तमाम योजनाओं का लाभ अब और तेजी से पहुंचाएगी.

  • 8:38 PM IST

    यूनियन टेरिटरी बन जाने के बाद अब लद्दाख के लोगों का विकास भारत सरकार की स्वाभाविक जिम्मेदारी बनता है.

  • 8:38 PM IST

    फूड प्रोसेसिंग सेक्टर से जुड़े लोगों से आग्रह करूंगा कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के स्थानीय प्रोडक्ट्स को दुनिया भर में पहुंचाने के लिए आगे आएं.

  • 8:36 PM IST

    जम्मू-कश्मीर के केसर का रंग हो या कहवा का स्वाद, सेब का मीठापन हो या खुबानी का रसीलापन, कश्मीरी शॉल हो या कलाकृतियां, लद्दाख के ऑर्गेनिक प्रोडक्ट हो या हर्बल मेडिसिन, इसका प्रसार दुनिया भर में किए जाने की जरूरत है.

  • 8:34 PM IST

    सरकार ने जो फैसला लिया है, वह जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के उन नौजवानों को भी मदद करेगा, जो स्पोर्ट्स की दुनिया में आगे बढ़ना चाहते हैं.